अफसरों को मंत्री रामसूरत राय का निर्देश: राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री बोले- अफसरों को सही तरीके से काम-काज करना चाहिए, विभाग की भी छवि बढ़ियां होगी

0
8


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Minister Ramsurat Rai Instruction To Officer During Workshop In Patna; Bihar Bhaskar Latest News

पटना7 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

एक दिवसीय कार्यशाला के दौरान मंत्री रामसूरत राय।

भूमि सुधार उप समाहर्ता राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग और राजस्व प्रशासन के आधार स्तंभ हैं, उनकी स्थिति छत और जमीन के बीच की है। उन्हें ऊपर भी देखना है और नीचे भी। अगर भूमि सुधार उप समाहर्ता अपने कर्तव्यों का निर्वहण सही तरीके से करें तो विभाग की कार्यप्रणाली और छवि दोनों में सुधार होगा। ये बातें मंगलवार को राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के मंत्री राम सूरत कुमार ने भूमि सुधार उप समाहर्ताओं की एक दिवसीय कार्यशाला सह उन्मुखीकरण कार्यक्रम में कहीं।

निष्पक्ष होकर काम करें

राजस्व मंत्री ने कहा कि आम लोगों में जिला कोर्ट से लेकर सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों के प्रति बहुत आदर और सम्मान हैं। आपको जो नई भूमिका मिली है वह एक न्यायाधीश की ही है। अगर आप निष्पक्ष होकर काम करेंगे तो आम लोगों में आपकी और विभाग की इज्जत काफी बढ़ जाएगी। इस एक्ट के जरिए आप अपने करियर का चमका सकते हैं और समाज में अपनी अमिट छाप छोड़ सकते हैं।

हर फैसला तार्किक और नियम संगत होना चाहिए

राजस्व मंत्री ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा हाईकोर्ट के आदेश पर रोक लगा दी गई है और इसी के आलोक में विभाग द्वारा भूमि सुधार उप समाहर्ताओं को रैयती जमीन पर टाइटल के मामले में सुनवाई का आदेश निर्गत किया गया है। अभी सुप्रीम कोर्ट का अंतिम निर्णय आना बाकी है। ऐसे में भूमि सुधार उपसमाहर्ता को अपने आप को साबित करना है कि उनको रैयती जमीन के टाइटिल के मामले में सुनवाई का अधिकार देने का सरकार का फैसला गलत नहीं था। आपका हरेक फैसला तार्किक और नियम संगत होना चाहिए। अनिश्चित काल तक किसी भी मामले की सुनवाई टालने की प्रवृति ठीक नहीं है। नियत समय के भीतर सुनवाई की जाए और हरेक सुनवाई और अंतिम फैसला को वेबसाइट पर अपलोड किया जाए। विभाग के वरीय अधिकारी उन फैसलों का अघ्ययन करेंगे और जरूरी निर्देश देंगे।

अंचल अधिकारी द्वारा किए जा रहे कार्यों की गहराई से जांच करें
राजस्व मंत्री ने सभी भूमि सुधार उपसमाहर्ताओं को अंचलों एवं राजस्व कचहरियों के औचक निरीक्षण करने का निदेश दिया। अंचल अधिकारी द्वारा किए जा रहे कार्यों की गहराई से जांच करने का निदेश दिया। उनका कहना था कि कर्मियों की कमी की वजह से कर्मचारी के मुंशी हल्कों में काम कर रहे हैं और उनसे विभाग की बहुत बदनामी हो रही है। साथ ही उन्होंने अंचल अधिकारियों के लिए नियमित अंतराल पर सेमिनार आयोजित करने का निदेश विभागीय अधिकारियों को दिया।

उन्होंने बिहार राजस्व सेवा के नए अंचल अधिकारियों को निष्पक्ष होकर काम करने की नसीहत दी और कहा कि पदस्थापन के दौरान किसी भी राजनीतिक दल के प्रति लगाव या दुराव का भाव प्रदर्शित नहीं करें। साथ ही नीचे के कर्मियों द्वारा अपने वरीय अधिकारियों के बारे में असम्मानजनक भाषा के इस्तेमाल पर भी चिंता जताई। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री के जनता दरबार में भी अक्सर फरियादी यह कहते मिलते हैं कि राजस्व कर्मी ने उन्हें धमकाया कि कहां जाओगे लौट के तो मेरे ही पास आना है!

आदेश का कार्यान्वयन नहीं होना ही भूमि विवाद का बड़ा कारण
राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग के अपर मुख्य सचिव विवेक कुमार सिंह ने कहा कि शनिवार को होनेवाली बैठक की मॉनिटरिंग एक्टिव मोड में करने की जरूरत है। विभिन्न राजस्व न्यायालयों द्वारा पारित आदेशों के क्रियान्यवन का नहीं होना भी भूमि विवादों का एक महत्वपूर्ण कारण है।

अपर मुख्य सचिव द्वारा विभागीय पदाधिकारियों को निदेश दिया गया कि सभी जिला पदाधिकारियों को पत्र देकर ताकिद करें कि भूमि सुधार उप समाहर्ताओं को हरेक सप्ताह 2 से 3 दिन अन्य कार्यों में ड्यूटी नहीं लगाएं ताकि वो अपना कोर्ट कर सकें। ऑनलाइन सेवाओं में खराब प्रदर्शन करने वाले अंचलों के लिए संबंधित भूमि सुधार उप समाहर्ता से पूछा गया और उन्हें 31 मार्च, 2021 के पहले के लंबित मामलों की प्राथमिकता के आधार पर निष्पादन करने का निदेश दिया गया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here