आईटी विभाग चीन स्थित इकाई द्वारा नियंत्रित भारतीय फर्मों पर छापेमारी करता है

0
11


आयकर विभाग ने कथित कर चोरी को लेकर दिल्ली, गुजरात और महाराष्ट्र में कुछ कंपनियों और उनकी सहयोगी कंपनियों के परिसरों पर छापेमारी की है।

केमिकल, बॉल बेयरिंग, मशीनरी पार्ट्स और इंजेक्शन-मोल्डिंग मशीनरी के कारोबार में लगी इन फर्मों को कथित तौर पर चीन की एक इकाई द्वारा नियंत्रित किया जाता है। तलाशी अभियान ने दिल्ली, मुंबई, अहमदाबाद और गांधीधाम, गुजरात में लगभग 20 परिसरों को कवर किया।

एजेंसी के मुताबिक, कंपनियां बहीखातों में हेराफेरी कर कर चोरी में लिप्त थीं। अब तक एकत्र किए गए सबूतों के विश्लेषण से पता चला है कि उन्होंने पिछले दो वर्षों में शेल संस्थाओं के एक नेटवर्क के माध्यम से चीन को ₹20 करोड़ हस्तांतरित किए थे।

आईटी विभाग ने पाया कि मुंबई स्थित एक पेशेवर फर्म ने न केवल शेल संस्थाओं को चलाने में सहायता की, बल्कि डमी निदेशक भी प्रदान किए जो या तो उसके कर्मचारी/चालक थे। पूछताछ के दौरान, निदेशकों ने स्वीकार किया कि उन्हें इन संस्थाओं की गतिविधियों की जानकारी नहीं थी और वे प्रमुख पदाधिकारियों के निर्देशों के अनुसार दस्तावेजों पर हस्ताक्षर कर रहे थे।

एजेंसी ने कहा कि फर्म ने बैंकिंग और अन्य नियामक आवश्यकताओं के लिए अपने पते प्रदान करके विदेशी नागरिकों की सहायता करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

जांच के दायरे में आने वाली कंपनियों में से एक, जो रसायनों का कारोबार करती है, ने मार्शल आइलैंड्स के माध्यम से खरीद के दावे को कम कर क्षेत्राधिकार में भेज दिया था। उसने चीन की एक कंपनी से 56 करोड़ रुपये की वस्तुएं खरीदीं, लेकिन उसे मार्शल आइलैंड्स की एक कंपनी से बिल भेजा गया था, जिसका भुगतान चीन में बैंक खाते के माध्यम से किया गया था।

यह आरोप लगाया गया था कि भारतीय कंपनी अपनी कर देयता को कम करने के लिए अवैध खरीद बिल लेने में भी शामिल थी और उसने भारत में जमीन की खरीद के लिए बेहिसाब नकद भुगतान भी किया था।

एजेंसी ने कुछ कंपनियों के बैंक खातों पर रोक लगा दी है, जिनका कुल बकाया करीब 28 करोड़ रुपये है। तलाशी के दौरान 66 लाख रुपये की बेहिसाब नकदी भी बरामद की गई।

.



Source link