ओमिक्रॉन की दहशत के बीच श्मशान घाटों का रेट कार्ड: पटना में दूसरी लहर की तरह नहीं होगी वसूली, डोम, नाई-पंडित की फीस तय की

0
11


पटना7 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

ओमिक्रॉन की दहशत के बीच श्मशान घाटों पर तैयारी चल रही है। अवैध वसूली नहीं हो, इसके लिए लकड़ी से लेकर नाई-पंडित तक का रेट तय किया जा रहा है। पटना नगर निगम ने शहर के गुलबी घाट, बांस घाट और खाजेकलां घाट पर दाह संस्कार के लिए नई रेट लिस्ट जारी की है। नगर निगम का दावा है कि अब घाटों पर शव का सौदा नहीं होगा।

नगर निगम ने भामाशाह फाउंडेशन के साथ मिलकर अंतिम संस्कार को लेकर बड़ी तैयारी की है। कम शुल्क में बिजली से अंतिम संस्कार कराया जाएगा। कोरोना की दूसरी लहर में श्मशानों में वेटिंग के साथ जमकर वसूली के मामले आए। शव जलाने के लिए जगह नहीं मिलती थी और मिली भी तो सौदा किया जाता था। भास्कर ने स्टिंग से इसका खुलासा भी किया था।

पटना की महापौर सीता साहू ने मंगलवार को शवदाह गृह का शुभारंभ कर दिया है। श्मशान घाट के शुभारंभ के दौरान उपमहापौर, स्थायी समिति के सदस्य इंद्रदीप कुमार चंद्रवंशी, डॉ. आशीष कुमार सिन्हा, मनोज कुमार सहित कई वार्ड पार्षद उपस्थित रहे। इस दौरान महापौर सीता साहू ने कहा कि पटना नगर निगम द्वारा आम जनों के हित का ध्यान रखते हुए घाटों पर अंत्येष्टि के लिए शुल्क का निर्धारण किया गया है, जिससे किसी से अतिरिक्त शुल्क नहीं लिया जाए। यह व्यवस्था गुलबी घाट, बांस घाट और खाजेकलां घाट पर लागू की जाएगी।

नई रेट लिस्ट।

नई रेट लिस्ट।

जानिए क्या रखा गया है रेट

  • आम की लड़की (7) मन – 2300 रुपए
  • आम की लकड़ी (9) मन – 2600 रुपए
  • आम की लकड़ी (11) मन – 2900 रुपए
  • झलौंसी एक बोझा – 100 रुपए
  • शव को जलाने और लकड़ी को मोड़ने की मजदूरी- 300 रुपए
  • नाई हजामत और दाढ़ी बनवाने का शुल्क- 100 रुपए
  • पंडित जी विधि सम्मत पाठ शुल्क- 100 रुपए
  • डोम राजा के लिए भी निर्धारित हो गया है शुल्क

सरकारी मशीन पर शव जलाने के लिए – 300 रुपए

  • लकड़ी का फ्रेम मशीन पर रखने के लिए- 200 रुपए
  • शव को मशीन पर ले जाने वाले मजदूर की मजदूरी – 100 रुपए
  • नाई हजामत दाढ़ी बनवाने का शुल्क- 100 रुपए
  • डोम राजा के लिए भी निर्धारित हो गया है शुल्क

शिकायत की भी हुई व्यवस्था, होगी कार्रवाई
पटना नगर निगम में शवदाह को लेकर श्मशान घाटों पर विशेष तैयारी के साथ अवैध वसूली पर अंकुश लगाने को लेकर भी बड़ी तैयारी है। घाटों पर कोरोना की दूसरी लहर में हुई मारामारी और अवैध वसूली से निपटने को लेकर सुझाव और शिकायत के लिए मोबाइल नंबर 9334692937 जारी किया गया है। पटना नगर निगम का कहना है कि इस नंबर पर फोन कर शिकायत किया जा सकता है। इसमें मनमानी करने वालों पर कार्रवाई की जाएगी।

जानिए बिहार में मौत का आंकड़ा
बिहार में अब तक 12090 लोगों की कोरोना से मौत हो गई है। पटना में कोरोना से मरने वालों की संख्या 2784 है, लेकिन बिहार के अन्य जिलों के लोग भी संक्रमित होने के बाद पटना में भर्ती होते रहे हैं। पटना में मौत के बाद अंतिम संस्कार पटना में ही हुआ। सरकार की गाइडलाइन रही कि डेड बॉडी को पटना से बाहर नहीं ले जाना है। कोरोना संक्रमित की जहां मौत हुई, उसी क्षेत्र में ही पास के घाट पर कोविड प्रोटोकॉल में उसका अंतिम संस्कार किया जाएगा।

याद कीजिए शव की भीड़ का मंजर
कोरोना की दूसरी लहर में वायरस ने मौत का तांडव मचा दिया। अस्पताल से लेकर श्मशानों घाटों पर शवों की भीड़ हो गई। घाटों पर जगह नहीं थी और अस्पतालों से डेड बॉडी ले जाने के लिए भी समस्या हो रही थी। ऐसे में परिवार वालों से जमकर वसूली हो रही थी। शवों का अंतिम संस्कार कराने को लेकर घाटों पर भी सौदा किया जाता था। एम्बुलेंस से लेकर घाटों पर मुंह मांगा पैसा देना पड़ रहा था। इस कारण से इस बार अंतिम संस्कार को लेकर विशेष तैयारी की जा रही है। इसमें श्मशान घाटों की व्यवस्था के साथ रेट को लेकर भी काम किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here