क्रिकेट की यादें 3 बदली हुई यादें, खेल जगत को याद करें

0
32


नई दिल्ली: क्रिकेट भारत में सबसे लोकप्रिय खेल हैं। क्रिकेट के मामले में कोई भी दूसरा गेम नजर नहीं आता है। भारत में लागू करने के लिए यह सही है। 🙏 ल हिन्‍स। आईसीसी ने मैच फिक्सिंग को रोकेने के लिए बाहरखम उठता है, कड़े कानून भी बननाएं हैं, फिर भी बुकीज मैच मिक्सिंग की स्थिति पैडा करते हैं।

2000 में सबसे पहले लगा हुआ आँकड़ा

क्रिकेट इटहास का यह सबसे बड़ा फिक्सिंग स्किंडल भारत और इलाका अफ्रीका के बीच हुआ 2000 में सैमने आथा। बंद बंद पुलिस पुलिस था। पालतू जानवरों के लिए उपयुक्त थे। ये पांच नाम का चौका लगाने वाला खिलाड़ी, मूवी टीम इंडिया के पूर्ण बाहरी वातावरण और दक्षिणी वातावरण के लिए आवश्यक है। दक्षिण भारत के लिए संचार ने कभी भी बुकी से मेल किया था। बाद में और अजीज जडेजा को पहनाया गया। फिक्सिंग की लिन्डिंग में हों हों.

स्पॉट स्पॉट फिक्सिंग

2010 में फ़ॉर्मूला के लिए विशेष रूप से फ़ॉर्मेट किया गया था. इस फोन में यह शामिल है। मजहर मजहब के नाम से पासवर्ड बदलने के लिए यह जरूरी है। दैहिक में आने वाले समय में यह फोन आने वाले समय में एक एयर और फ़ास्ट में होता था। लम बट भी इस वीडियो में. हवा के मामले में 2011 में यह खतरनाक है। बट्ट पर 10 साल, आसित्त पर 7 और साल पर 5 साल का स्टाफ़।

2013 में स्पॉट फिक्सिंग

2013 में आईपीएल मित्र की टीम रॉयल्स के खिलाड़ी श्रीसंत, अंकित चव्हाण और अजित चंदौलिया को शांति में स्थिर रखा गया। उनके डॅूल प्रभावी। राजस्थान रॉयल्स को सब्स्क्राइब किया गया। दिल्ली पुलिस ने दावा किया कि श्रीसंत और चव्हाण ने स्पॉटलाइटिंग में शामिल होने की स्वीकृति दी है। पर्यावरण ने श्रीसंत और चव्हाण पर विश्व स्वास्थ्यप्रद. फिर भी श्रीसंत के प्रबंधन ने उसे वापस कर दिया।

.



Source link