तेजस्वी-मीसा पर केस कराने वाले वकील से EXCLUSIVE बातचीत: कहा- लालू यादव ने जेल से टिकट साइन कर भेज दिया था, लेकिन तेजस्वी ने खेल कर दिया, बुलो मंडल ने ज्यादा पैसा देकर टिकट खरीदा

0
33


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • EXCLUSIVE Conversation With The Lawyer Who Got The Case Against 6 Leaders Including Tejashwi Misa

पटना4 मिनट पहलेलेखक: प्रणय प्रियंवद

  • कॉपी लिंक

सुप्रीम कोर्ट के वकील और ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के नेता संजीव कुमार सिंह (फाइल फोटो)।

5 करोड़ रुपए लेकर टिकट नहीं देने का आरोप RJD और कांग्रेस के 5 नेताओं पर लगा है। पटना के मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी विजय किशोर सिंह की अदालत ने नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव, राज्यसभा सदस्य मीसा भारती, विधानसभा के भूतपूर्व अध्यक्ष सदानंद सिंह के पुत्र शुभाकांत मुकेश, कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा और कांग्रेस के प्रवक्ता राजेश राठौर पर प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था। इसके बाद 6 नेताओं पर FIR दर्ज कर ली गई है।

सुप्रीम कोर्ट के वकील और ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी के नेता संजीव कुमार सिंह द्वारा लगाए गए आरोप के बाद यह मामला गरमाया हुआ है। मामला 2019 का है, जब लोकसभा चुनाव में भागलपुर सीट से टिकट के बदले पांच करोड़ रुपए लिए गए और टिकट शैलेश कुमार उर्फ बुलो मंडल को दे दिया गया। आरोप के जवाब में तेजस्वी यादव कह चुके हैं कि मुकदमा उनके खिलाफ साजिश है। भास्कर ने कोर्ट में आरोप लगाने वाले संजीव कुमार सिंह से फोन पर एक्सक्लूसिव बातचीत की। आइए जानते हैं…

पटना में तेजस्वी-मीसा समेत 5 नेताओं पर केस दर्ज

सवाल- तेजस्वी यादव, मीसा भारती, मदन मोहन झा आदि 6 नेताओं पर क्या आरोप है?

जवाब– अब तो हम इसमें अरेस्टिंग करवाने के लिए प्रक्रिया शुरू करेंगे।

सवाल- अरेस्टिंग करना होगा तो पुलिस करेगी। आप इसमें क्या करेंगे?

जवाब- हम शिकायतकर्ता हैं। सबूत कोर्ट में दिया है। पुलिस को भी देंगे।

सवाब- कोर्ट में क्या-क्या सबूत दिया है आपने?

जवाब– यह बात मीडिया में नहीं बता सकते, जब तक कि मेरा बयान कोर्ट में दर्ज नहीं हो जाता। कोर्ट ने मना किया है। हमारे पास इतने सबूत हैं कि 7 साल तक की सजा होगी। मैं सुप्रीम कोर्ट का वकील हूं। 15 सालों से वकालत कर रहा हूं। इतने सबूत हैं कि वे सब सोच भी नहीं सकते हैं।

सवाल- तेजस्वी यादव, मीसा भारती सब के बारे में सबूत है?

जवाब- सब के बारे में सबूत हैं और जो लोग इनके पक्ष में बयान दे रहे हैं उससे उल्टे मुझे ही फायदा हो रहा है।

सवाल- वह कैसे?

जवाब– शिवानंद तिवारी ने मुझे क्या कहा- मेंटल कहा। इससे क्रिमिनल और सिविल दोनों में मामला बनता है। किसी भी सुप्रीम कोर्ट के वकील को आप मीडिया में मेंटल कहोगे तो आप समझ लीजिए।

सवाल- कांग्रेस प्रवक्ता राजेश राठौर ने तो कहा कि आप कांग्रेस में थे ही नहीं?

जवाब- राठौर तो हमारे बाद आए हैं। मेरी पांच पीढ़ी कांग्रेस में रही है। मेरे परदादा, दोनों दादा, दादी, दादी के भाई, मेरे पिता जी, मेरे फूफा जी मंत्री रहे, मेरे मामा विधायक रहे, मौसा जी MLC रहे। मेरी मैडम, मेरा भाई सब लोग कांग्रेसी हैं।

सवाल- आप खुद भागलपुर में रहते हैं?

जवाब- मैं सुप्रीम कोर्ट में वकील हूं तो दिल्ली में रहता हूं। भागलपुर में हमारी जमींदारी है। हम वीर कुंवर सिंह के वंशज हैं। हमलोग जमींदार परिवार से हैं।

सवाल- आपने होर्डिंग लगवाया था कि भावी प्रधानमंत्री आप हैं?

जवाब- बिल्कुल। हमने दावा किया कि राहुल गांधी नहीं बन सकते तो हमने अपना नाम आगे बढ़ाया और कांग्रेस के कई AICC सदस्यों ने मुझे सपोर्ट किया।

सवाल- बिहार कांग्रेस में आप किस पद पर रहे?

जवाब- मैं बिहार और झारखंड में पर्यवेक्षक प्रभारी हूं। अभी उत्तर प्रदेश का प्रभार भी मुझे दिया गया है।

सवाल- ये लोग आपको इस तरह से मेंटल क्यों बोल रहे हैं?

जवाब- अपराधी को बचाने के लिए क्या करेंगे। कोई बचा नहीं पाएगा। मेरी मुलाकात सोनिया जी से हुई है। उन्होंने कहा कि मदन मोहन झा, राजेश राठौर हटा दिए जाएंगे। सदानंद सिंह के पुत्र तो जदयू में गए हुए हैं। इसी बार विधानसभा चुनाव में जदयू से टिकट मिल जाता उनको। कहलगांव के पवन यादव को भाजपा का टिकट मिल गया तो मजबूरी में सदानंद सिंह ने कांग्रेस का टिकट बेटे को दिलवा दिया।

सवाल- कांग्रेस के नेता प्रेमचंद मिश्रा का बयान आया है कि कोर्ट में मामला नहीं टिकेगा?

जवाब– प्रेमचंद मिश्रा वकील हैं कि मैं हूं, आप ही बताइए?

सवाल- आप खुद ही भागलपुर से टिकट चाह रहे थे ?

जवाब- हां तो। भागलपुर लोकसभा से टिकट नहीं दिया और फिर कहा गया कि दो विधानसभा से एक भाई का और मेरा टिकट दे देंगे। वह भी नहीं दिया।

सवाल- आपके भाई का क्या नाम है?

जवाब- राजीव कुमार सिंह। पोस्टर में नीचे की तरफ राजीव का ही फोटो है। छोटा भाई यूथ कांग्रेस में प्रदेश सचिव रहा है। अभी तक है। लेटर, कार्य, प्रोग्राम सब झुठला देंगे क्या ?

सवाल- टिकट देने के नाम पर रुपए लिए और आपको नहीं दिया?

जवाब- मुझसे पांच करोड़ रुपए ले लिया और टिकट बुलो मंडल को दे दिया।

सवाल- तेजस्वी यादव तो कह रहे थे कि वे बताएं कि इतना पैसा कहां से लाए?

जवाब- हम तो जमींदार हैं। मैडम मल्टीनेशनल कंपनी में है। भाई ठेकेदार है। मैं सुप्रीम कोर्ट का वकील हूं। एक केस की हियरिंग की फीस 14-15 लाख रुपए लेता हूं। कपिल सिब्बल एक करोड़ लेते हैं तो कोई क्या कर लेगा? मैं उनका सहयोगी रह चुका हूं।

सवाल- तेजस्वी यादव का कहना है कि साजिश के तहत फंसाया जा रहा है?

जवाब- फालतू बात है। तेजस्वी का दूसरा नाम तरूण है। उन्होंने तरूण नाम से प्रोपर्टी बनाई। चुनाव आयोग में जो एफिटेविड दिया उसमें तरुण की संपत्ति की जानकारी नहीं दी। लालू प्रसाद के तो दो ही बेटे हैं ना, तीन बेटे तो नहीं हैं। तीसरा तरुण कहां से आया और जब तेजस्वी ही तरूण हैं तो चुनाव आयोग को एफिडेविट में क्यों नहीं साफ-साफ बताया? हमारे पास खाता, खेसरा, रकबा सब रिकॉर्ड है। अभी इलेक्शन डिस्मिस करा देंगे तेजस्वी और मीसा भारती का। मीसा भारती ने पति शैलेश कुमार की संपत्ति का पूरा जिक्र नहीं किया है। पटियाला हाउस में भी पूरी जानकारी नहीं दी है। सब का सबूत है मेरे पास।

सवाल- आपके पास रिकॉर्डिंग, टेप सब है?

जवाब- सब है। लेते-देते सब है। रुपए लेन-देने करते हुए भी है। जज ने सब सबूत देखा है। मुझे इन लोगों ने बर्बाद कर दिया। मेरी संपत्ति हड़प ली। मेरा काफी नुकसान किया। मेरे साथ बेईमानी की गई। विश्वासघात किया गया। पैसा लेकर भी टिकट नहीं दिया। आसरे में हम दूसरी पार्टी में नहीं गए।

सवाल- बुलो मंडल से ज्यादा रुपए ले लिया क्या?

जवाब- मेरे लिए तो लालू प्रसाद ने जेल से टिकट साइन कर भेज दिया था। मैंने उसे देखा भी था। कहा कि रात में पार्टी की मीटिंग होगी इसके बाद सुबह टिकट दे देंगे, लेकिन रात में ही तेजस्वी ने खेला कर दिया मेरे साथ। भागलपुर में नोमिनेशन भी देर से हुआ था इसी कारण से। भागलपुर डीएम ऑफिस में मेरे और बुलो मंडल से झगड़ा भी हुआ था। ज्यादा रुपए देकर बुलो मंडल टिकट ले लिया।

खबरें और भी हैं…



Source link