दोबारा बढ़ने वाले हैं TV, फ्रिज, AC के दाम! जुलाई में 10-15 परसेंट तक रेट बढ़ाएंगी कंपनियां

0
18


नई दिल्ली: Consumer Appliance Price Rise: TV, फ्रिज, AC और तमाम दूसरे तरह के होम अप्लायंसेज खरीदना चाहते हैं तो जल्दी कीजिए, क्योंकि इनके दाम एक बार फिर बढ़ने वाले हैं. Motilal Oswal Financial Service की एक रिपोर्ट के मुताबिक कमोडिटी की कीमतों में साल 2021 में बढ़ोतरी देखने को मिली है, जिसका असर अप्लायंसेज की कीमतों पर भी होगा

10-15 परसेंट तक महंगे होंगे TV, फ्रिज, AC

Motilal Oswal Financial Service की रिपोर्ट के मुताबिक अप्रैल 2021 में CoreCommodity CRB index 70 परसेंट चढ़ा है. रिपोर्ट में दावा किया गाय है कि इसका असर कंज्यूमर ड्यूरेबल्स की महंगाई पर देखने को मिलेगा. इन उत्पादों को बनाने के लिए इस्तेमाल होने वाले कमोडिटी की कीमतें बढ़ने से TV, फ्रिज, AC, वॉशिंग मशीन, वॉटर हीटर समेत कई होम अप्लायंसेज के दाम 10-15 परसेंट बढ़ना तय है. रिपोर्ट के मुताबिक कीमतें इस साल जुलाई मध्य से बढ़ना शुरू हो जाएंगी. 

ये भी पढ़ें- फिर बनना शुरू होंगे Driving License, जानिए कब से कर सकेंगे आवदेन

कच्चे माल की कीमतें लगातार बढ़ीं

इन अप्लायंसेज को बनाने वाली कंपनियों ने कुछ जरूरी कंपोनेंट की कमी और मेटल की कीमतों में बढ़ोतरी की वजह से फरवरी में दाम बढ़ाए थे. अब उनकी बिक्री पर लॉडाउन के चलते बुरा असर पड़ा है. दरअसल, कोरोना महामारी पर काबू पाने के लिए राज्यों में लॉकडाउन के चलते कंज्यूमर ड्यूरेबल्स समेत दूसरी गैर-जरूरी चीजों की बिक्री कुछ समय के लिए ठप रही, जबकि दूसरी ओर कमोडिटी की कीमतें लगातार बढ़ती रहीं. 

महंगाई का बोझ ग्राहकों पर डाला जाएगा

सप्लाई चेन में ये रुकावट तब आई जब गर्मी के सीजन में कंज्यूमर फ्रिज और एयर कंडीशनर जैसे अप्लायसेंज की सबसे ज्यादा खरीद करता है. Bajaj Electricals के चीफ फाइेंशियल ऑफिसर अनंत पुरनदरे का कहना है कि जब कमोडिटी की कीमतों में लगातर उठापटक है, कमोडिटी कीमतें बढ़ीं तो इसका बोझ कंज्यूमर पर डाला जाएगा. एक अप्लायंसेज कंपनी के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट का कहना है कि सरकार से हमने GST में कटौती करके थोड़ी राहत की मांग की थी, जिसे नहीं माना गया, तो अब इंडस्ट्री को कीमतें बढ़ानी होंगी. ये हमारे लिए मुश्किल साल है, लेकिन हमे बिजनेस चलाना है. 

फिनिश्ड प्रोडक्ट का इंपोर्ट पहले से महंगा

फिलहाल किसी फिनिश्ड प्रोडक्ट को इंपोर्ट करना महंगा हो चुका है क्योंकि सरकार ने पूरी तरह से तैयार यूनिट को दूसरे देशों से मंगाने पर 20 परसेंट इंपोर्ट ड्यूटी लगा दी है. 
अब जब इंपोर्ट करने का विकल्प खत्म हो चुका है तो ऐसे में कीमतें बढ़ाना ही इकलौता विकल्प बचता है. 

Moneycontrol में छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक, Retailers Association of India (RAI) की ओर से कराए गए एक सर्वे के मुताबिक जनवरी 2021 और फरवरी 2021 में कंज्यूमर ड्यूरेबल्स और इलेक्ट्रॉनिक कैटेगरी की बिक्री में 10 परसेंट और 15 परसेंट की बढ़ोतरी देखने को मिली है. CARE Ratings की रिपोर्ट में कहा गया है कि वित्त वर्ष 2020 में कंज्यूमर ड्यूरेबल का उत्पादन 5-8 परसेंट की रफ्तार से बढ़ेगा.

ये भी पढ़ें- क्या Corona की वैक्सीन, दवाएं होंगी टैक्स फ्री? आज GST काउंसिल की बैठक पर रहेगी नजर

LIVE TV





Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here