नवादा में बाल सुधार गृह में आत्महत्या का मामला: जांच टीम को पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार, तीन सदस्यीय टीम ने बारीकी से की पूरे मामले की जांच

0
34


नवादा3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

जिलाधिकारी यश पाल मीणा के निर्देश पर तीन सदस्यीय टीम ने बाल सुधार गृह में किशोर के आत्महत्या मामले की पूरे बारीकी से जांच की है। काफी देरतक हर पहलुओं पर जांच की गई। बाल सुधार गृह में रह रहे अन्य किशोरों से भी पूछताछ की। मृतक के वार्ड में रहने वाले अन्य तीन किशोरों से भी घटनाक्रम की जानकारी ली। प्रारंभिक जांच में टीम के अधिकारियों का मानना है कि किशोर ने आत्महत्या की है।

पर्दे के हुक में गमछे का फंदा लगाकर वह झूल गया था, जिससे उसकी मौत हुई है। जांच टीम के अधिकारी सदर एसडीएम उमेश कुमार भारती ने बताया कि मामले की जांच की गई है। फिलहाल पोस्टमार्टम रिपोर्ट का इंतजार है। पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद जांच रिपोर्ट जिलाधिकारी को सौंप दी जाएगी। टीम में सदर एसडीएम के अलावा एसडीपीओ उपेंद्र प्रसाद व सदर अस्पताल के चिकित्सक डा. बीबी सिंह शामिल हैं।

स्वजनों को सौंपा गया किशोर का शव

पटना मेडिकल कालेज अस्पताल, पटना में शव का पोस्टमार्टम कराया गया। पोस्टमार्टम के बाद शव को उसके स्वजनों को सौंप दिया गया। शुक्रवार की देर शाम मृतक के स्वजन नवादा पहुंच गए थे। कागजी कार्रवाई के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए पीएमसीएच पटना भेजा गया। बताया जा रहा है कि बेसरा को सुरक्षित रख लिया गया है।

हो सकती है न्यायिक जांच

आत्महत्या मामले की न्यायिक जांच हो सकती है। जानकारों का कहना है कि यह नियम है कि जेल या बाल सुधार गृह में घटना-दुर्घटना में मौत मामले की न्यायिक जांच होती है। इसलिए आत्महत्या मामले में भी न्यायिक जांच हो सकती है। गौरतलब है कि शुक्रवार को बाल सुधार गृह में किशोर ने काले रंग के गमछे से फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली थी। वह बाइक चोरी के आरोप में पकड़ा गया था।

खबरें और भी हैं…



Source link