नीतीश की शराबबंदी पर BJP ने उठाई उंगुली: भाजपा सांसद सुशील सिंह ने थाने पर दिया धरना, बोले-खुलेआम बिक रही शराब, पुलिस घूस लेकर चलवा रही धंधा

0
47


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

औरंगाबादएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

रफीगंज में कार्यकर्ताओं के साथ BJP सांसद ने दिया धरना।

  • भाजपा कार्यकर्ता की पिटाई मामले में सांसद ने दिया धरना
  • पूर्व सहकारित मंत्री थानाध्यक्ष के पक्ष में उतरे, सांसद पर ही लगाये आरोप

बिहार में शराबबंदी के बावजूद खुलेआम शराब की बिक्री हो रही है और वह भी पुलिस के सरंक्षण में। यह हम नहीं कह रहे, बल्कि जदयू की सहयोगी पार्टी भाजपा कह रही है। औरंगाबाद से BJP सांसद सुशील कुमार सिंह ने नीतीश सरकार की पुलिस पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं। शनिवार की शाम सांसद के द्वारा इसके खिलाफ धरना भी दिया गया। सांसद के आरोपों पर सरकार के बचाव में भाजपा के वरिष्ठ नेता और पूर्व सहकारिता मंत्री रामाधार सिंह उतर गये हैं। उन्होंने सोशल मीडिया के जरिये सांसद पर ही कई आरोप मढ़ दिये हैं।

क्या है पूरा मामला
रफीगंज के भाजपा कार्यकर्ता शिवनारायण साव की पुलिस द्वारा पिटाई के विरोध में शनिवार को सांसद सुशील कुमार सिंह, MLC राजन कुमार सिंह सहित सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने थाना के समक्ष धरना-प्रदर्शन किया। इस दौरान धरने को संबोधित करते हुए सांसद ने नीतीश सरकार की पुलिस को नाकारा और घूसखोर बताते हुए बिहार में पूर्ण शराबबंदी की पोल खोल कर रख दी। उन्होंने खुद को प्रत्यक्षदर्शी बताते हुए कहा था कि थाना प्रभारी खुद अपने क्षेत्र में शराब बेचवाने का काम करते हैं।

जिसने कभी शराब पी ही नहीं, उसको पकड़ कर पीट दी पुलिस
रास्ता जाम करने तथा शराब का सेवन करने के आरोप में भाजपा कार्यकर्ता शिवनारायण साव, डाकबंगला निवासी गुडडू चौधरी तथा माड़ीपुर निवासी देवनन्दन राम को पुलिस ने गिरफ्तार किया था, जिन्हें देर रात थाने से ही जमानत देकर छोड़ दिया गया। यही कारण है कि भाजपा कार्यकर्ताओं ने थाना के मुख्य दरवाजे के सामने शिवनारायण साव को गिरफ्तार व मारपीट करने को लेकर पुलिस के विरोध में एक दिवसीय धरना दिया था। धरना के दौरान कार्यकर्ता शिवनारायण साव के बदन पर पुलिस की पिटाई से चोट के निशान भी दिखाये गये। सांसद ने पुलिस की बर्बर पिटाई की घोर निंदा की। सांसद ने कहा कि पुलिस द्वारा जिस व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया, उसने कभी शराब का का सेवन किया ही नहीं है। आश्चर्य की बात है कि डॉक्टर द्वारा भी बगैर ब्रेथ एनेलाइजर के अल्कोहल की पुष्टि कर दी गई, जो सरासर गलत है।

क्या कहती है पुलिस
SP औरंगाबाद सुधीर कुमार पोरिका ने बताया कि संबंधित मामले में सांसद की ओर से मेमोरेंडम दिया गया है। मामले की जांच SDPO को सौंपी गयी है। जांच रिपोर्ट आने के बाद विधि के तहत कार्रवाई होगी।

पुलिस के पक्ष में उतरे भाजपा के पूर्व मंत्री
भाजपा का एक सांसद नीतीश सरकार की पुलिस पर आरोप मढ़ रहा है तो दूसरा हिमायत में खड़ा हो गया है। पूर्व सहकारिता मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता रामाधार सिंह ने सोशल मीडिया के जरिये वर्तमान सांसद पर कई आरोप लगाए हैं। उन्होंने सांसद द्वारा बीते चुनाव में पैसा बांटने का आरोप लगाया है। यही नहीं, सत्ताधारी दल के नेता को क्या करना चाहिए यह भी सीख सांसद को दी है। इसके अलावा उन्होंने यह भी कहा है कि किसी भी ईमानदार छवि के पुलिस अधिकारी का सत्ताधारी न तो तबादला करा सकते और न ही निलंबित करा सकते हैं।



Source link