पंकज हत्याकांड में मकान मालिक राहुल पर शक की सुई: मृतक के पिता ने भी राहुल द्वारा हत्या करने की जताई आशंका, पुलिस के नाक के नीचे चलाता सट्टे का अड्डा

0
27


मुजफ्फरपुर12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

मृतक पंकज के परिजन।

मुजफ्फरपुर जिले में हरिसभा चौक पर देर रात पंकज की गोली मारकर हत्या मामले में शक की सुई मकान मालिक राहुल सिंह पर घूम गयी है। मृतक के पिता रघुनाथ सहनी ने भी पुलिस को बयान दिया है, जिसमे राहुल द्वारा अपने बेटे की हत्या करने की आशंका जाहिर की है। अब पुलिस उसी एंगल से जांच करने में जुट गई है। बताया जाता है कि राहुल चाहरदीवारी के अंदर कई सालों से पुलिस के नाक के नीचे सट्टा का अड्डा चलाता था।

लेकिन, मिठनपुरा पुलिस इसे अंजान बनी रही। अब जब मामला सामने आया तो पुलिस के भो होश उड़ गए। छानबीन में पता लगा कि बड़े पैमाने पर राहिल सट्टा का अड्डा चलाता है। सिर्फ रेकी करने के लिए उसने तीन गार्ड रखा हुआ है। अब पुलिस उसकी तलाश में जुट गई है। बताया जा रहा है वह फरार हो गया है। उसके सभी सम्भावित ठिकानों पर छापेमारी की जा रही है।

इधर, बुधवार को टाउन DSP ने घटनास्थल पर पहुंचकर जांच की। वहां से सट्टा खेलने का सामान बरामद हुआ। एक और खोखा मिला। जिसे जब्त कर लिया गया। फिलहाल पूरे परिसर को पुलिस ने बंद कर दिया है। वहां आने जाने वाले सभी लोगों पर निगरानी भी पुलिस कर रही है।

छह माह से नाइट गार्ड का काम करता था पंकज :

मृतक के पिता रघुनाथ सहनी ने बताया कि वे अहियापुर के सहदुल्लापुर के रहने वाले हैं। छह माह पूर्व राहुल ने उनके बेटे को नाईट गार्ड के काम पर रखा था। कहा था कि अंदर में मार्केट है। जिसकी पहरेदारी करनी है। उसके साथ और भी लड़के काम करते थे। रात को उनलोगों को सूचना मिली कि पंकज को गोली मारकर हत्या कर दी गयी है।

हॉस्पिटल से भाग निकला था राहुल :

मृतक के भाई पप्पू ने बताया कि मकान मालिक राहुल ने उनलोगों को घटना के सम्बंध में कॉल केर जानकारी भी नहीं दी। इतना ही नहीं वह हॉस्पिटल आया और पंकज के दम तोड़ते ही भाग गया। इससे पूरा संदेह उसी पर जाता है।

प्रारम्भिक जांच में कई बातें:

इधर, राहुल से जुड़े एक क़रीबी सूत्र की माने तो अपराधियों का टारगेट राहुल सिंह ही था। उसके अपने एक पटीदार से सम्पत्ति विवाद चलने की बात बताई है। सूत्र का कहना है संयोग से राहुल उस समय अपने एक दोस्त को छोड़ने उसके घर गया था। तभी घटना हुई। मिठनपुरा थानेदार भागीरथ प्रसाद ने भी प्रारम्भिक जांच के बाद संपत्ति विवाद ही गोलीबारी का कारण बताया था। लेकिन, पंकज को क्यों गोली मारी गयी। यह गुत्थी अबतक नहीं सुलझी है। बता दें कि देर रात राहुल के मकान परिसर में अंदर सट्टा चल रहा था। पंकज बाहर गेट पर खड़ा होकर पहरेदारी कर रहा था। तभी बाइक सवार तीन अपराधी आये और गोली चलाने लगे। एक गोली पंकज के छाती में लगी और वह वहीं पर गिर गया। इसके बाद भी अपराधियों ने आधा दर्जन राउंड फायरिंग कर दहशत फैला दिया। इसके बाद भाग निकले। दूसरे गार्ड और स्थानीय लोगों ने उसे हॉस्पिटल पहुंचाया। जहां उसकी मौत हो गयी थी।

खबरें और भी हैं…



Source link