पंचायत शिक्षक नियोजन में 8,594 सीटें रह गईं खाली: 38 जिलों में 20803 पदों पर हुआ शिक्षक नियोजन, सबसे ज्यादा मुजफ्फरपुर में 706 सीटें खाली रह गईं, अभ्यर्थी उठा रहे सवाल

0
23


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Shikshak Niyojan Counselling Latest News; 8594 Posts Vacant In 38 Districts

पटनाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

बिहार में कक्षा एक से 5 तक के लिए शिक्षक नियोजन अंतर्गत पंचायत नियोजन में 12 जुलाई 2021 तक काउंसिलिंग प्रक्रिया चली। बिहार के 38 जिलों में कुल 20,803 पदों पर नियोजन की चली प्रक्रिया में चयनित अभ्यर्थियों की संख्या 12,209 रही। 8 हजार पांच सौ 94 सीटें खाली ही रह गईं। राज्य की 4,412 पंचायत नियोजन इकाइयों में काउंसिलिंग की यह प्रक्रिया चली। ज्यादातर जिलों में काउंसिलिंग की स्थिति यह है कि कुल पदों की आधी सीटें खाली ही रह गईं। सीटें खाली रहने के बाद सोशल मीडिया पर कई तरह के सवाल उठ रहे हैं।

मुजफ्फरपुर में सबसे ज्यादा 706 सीटें रह गईं खाली

सबसे ज्यादा 706 सीटें मुजफ्फरपुर में खाली रह गईं। मुजफ्फरपुर के 16 प्रखंडों में पंचायत नियोजन इकाई की संख्या 234 थी और कुल पद 1589 थे। इसमें से 883 पदों पर अभ्यर्थियों का चयन किया गया और 706 सीटें खाली रह गईं।

मुजफ्फरपुर के बाद इन जिलों में सबसे अधिक सीटें रह गईं खाली

जिला कुल पद चयनित अभ्यर्थी खाली रह गईं सीटें
पूर्णिया 1130 558 572
पूर्वी चंपारण 907 404 503
औरंगाबाद 1137 669 468
रोहतास 1108 640 468
अररिया 757 311 446
गया 1156 693 463
दरभंगा 1360 947 413

अभ्यर्थियों ने नाम के साथ सूची जारी करने की मांग की

प्राथमिक शिक्षा के निदेशक रंजीत कुमार सिंह के फेसबुक पर दर्जनों अभ्यर्थियों ने यह आग्रह किया है कि जितनी जल्दी हो सके, चयनित अभ्यिर्थियों के नाम और अन्य जानकारी के साथ सूची nic पर अपलोड की जाए। निखिल आनंद ने मांग की है कि नियोजन यूनिट वाइज चयनित अभ्यर्थियों के नाम मेधा अंक के साथ प्रकाशित किए जाएं।

सुमित कुमार ने फेसबुक पर पूछा है कि इतनी सीट खाली क्यों रह जा रही हैं, ये किसकी कमी है। अभ्यर्थियों की या विभाग की? देवव्रत सिंह ने कहा है कि- इतनी सारी सीटें रिक्त रह जा रही हैं और कम मेरिट वाले बेचारे बनकर हर रोज लौट जा रहे हैं। कुछ तो अलग तरीका अपनाईए, जिससे सारी सीटें भर जाएं।

समीर कुमार ने लिखा है कि ये बहाली बिहार बोर्ड वालों के लिए सुसाइड जैसा है। हम कम प्रतिशत वाले बहुत सारे अभ्यर्थी मानसिक असंतुलन से गुजर रहे हैं। कहा है कि बिहार बोर्ड के अभ्यर्थियों पर ध्यान दें नहीं तो पढ़ाई बर्बाद हो जाएगी।

खबरें और भी हैं…



Source link