पटना में अब पानी भी नकली: ब्रांडेड के नाम पर करोड़ों का पानी पिला गई कंपनी, खाद्य सुरक्षा विभा की छापेमारी में खुली पोल

0
20


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Food Safety Department Sealed Packaged Water Bottle Plant In Patna Selling On The Name Of Branded Companies

पटना4 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
  • फैक्ट्री को सील कर जांच के लिए भेजा गया पानी का सैंपल, काफी समय से चल रहा था धंधा
  • गांव में चलती थी फैक्ट्री और शहर में बिकता था पानी

आप बाूेतल वाला पानी पी रहे हैं तो सावधान हो जाएं, आपका पानी नकली हो सकता है। बिहार में बड़े पैमाने पर यह खेल चल रहा है। ब्रांडेड के नाम पर नकली पानी वाला बोतल बेचा जा रहा है। यह खुलासा फूड सेफ्टी विभाग की छापेमारी में हुआहै। पटना में एक ऐसी फैक्ट्री पकड़ी गई है जो एक बड़े ब्रांड के नाम पर लोगों को अब तक करोड़ों का पानी पिला चुकी है। खाद्य सुरक्षा विभा ने फैक्ट्री को सील करते हुए पानी का सैंपल जांच के लिए भेजा है।

बिसलरी कंपनी की शिकायत पर खुली पोल

बिहार में बिसलरी के नाम या मिलते जुलते नाम से पानी का बड़े पैमाने पर कारोबार किया जा रहा है। रेल और बस स्टैंड के साथ अन्य सार्वजनिक स्थानों पर धड़ल्ले से इसे बेचा जा रहा है। बड़ी ब्रांडेड कंपनियों के नाम पर हो रहे इस कारोबार को किसी को भनक ही नहीं थी। बिहार में हर माह बड़ा कारोबार नकली पानी का ही होता है। बोतल बंद पानी बेचने वाली भारत की प्रमुख कंपनी बिसलरी के निर्माता की तरफ से जिला लोक शिकायत निवारण में इसके लिए वाद दायर किया गया था। इसके बाद खाद्य सुरक्षा एवं मानक के पदाधिकारी अजय कुमार द्वारा कार्रवाई करते हुए पटना से बड़ा खुलासा किया गया है।

शहर में बिकता था पानी, गांव में चलती थी फैक्ट्री

बिसलरी कंपनी की शिकायत पर फूड सेफ्टी विभाग ने परसा बाजार के पास रहीमपुर गांव में छापेमारी की जहां से नकली पानी की फैक्ट्री की पोल खुली है। खाद्य सुरक्षा विभाग की टीम ने मेसर्स सर्वोत्तम इंटरप्राइजेज में छापामारी की जहां से बिसलरी नीर और कई कंपनी के मिलते जुलते पैकिंग वाले बोतलबंद पानी बरामद किए गए। वहां पानी का निर्माण किया जा रहा था। संदेह होने पर पानी का नमूना लिया गया तथा स्टाक में बनाकर रखे गए 80 कार्टून पानी को सीज कर दिया गया। पूरी फैक्ट्री को ही सील कर दिया गया है।

जांच में खुलेगी पानी की कहानी

जिला खाद्य सुरक्षा अधिकारी अजय कुमार का कहना है कि फैक्ट्री को सील कर दिया गया है।

बिना रजिस्ट्रेशन के ही पानी का कारोबार किया जा रहा था। यह फर्जीवाड़े के साथ कॉपीराइट का भी मामला है। बिसलरी नाम से पानी बनाने वाली कंपनी का इस नाम से ट्रेड मार्क है और इस नाम का प्रयाेग करने वाले अपराध की श्रेणी में आएंगे। फूड सेफ्टी विभाग ने फैक्ट्री से संबंधित सभी कागजात की मांग की लेकिन छापेमारी के समय केवल मजदूर और सुपरवाइजर ही मौजूद थे। सीजर लिस्ट बनाकर पानी को जांच के लिए भेजा गया है। रिपोर्ट आने पर असली नाम के नकली बोतल में पानी की पोल खुलेगी।

अन हाईजीन पानी से खराब हो सकती है सेहत

पटना के डॉ राणा एस पी सिंह का कहना है कि पानी को लेकर विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। बोतल बंद पानी में अगर गड़बड़ी है तो यह और मुश्किल पैदा कर देगा। अनहाईजीन पानी पीने से तत्काल में डायरिया डिस इंट्री के साथ अन्य कई परेशानी आ सकती है। पानी को बनाते समय कितना हाईजीन का प्रयोग किया जा रहा है और पानी का स्रोत क्या है इस पर विशेष ध्यान देना होगा। बेहतर होगा पानी की बोतल लेते समय अच्छे से यह जांच ले कि वह नकली है या असली। जल्दबाजी में लोग इस पर ध्यान नहीं देते हैं। इस कारण से नकली पानी बनाने वालों का कारोबार चलता है।

खबरें और भी हैं…



Source link