पुलिस की एक गोली 10 लाख की पड़ी: पुलिस आई हालचाल पूछने नहीं, शरीर से निकाली बुलेट लेने; हेलमेट नहीं पहनने पर मारी थी गोली

0
87
पुलिस की एक गोली 10 लाख की पड़ी: पुलिस आई हालचाल पूछने नहीं, शरीर से निकाली बुलेट लेने; हेलमेट नहीं पहनने पर मारी थी गोली


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • The Police Did Not Come To Inquire About The Well being, But To Take The Bullet Removed From The Body; Was Shot For Not Wearing A Helmet

नालंदा26 मिनट पहलेलेखक: नवेन्दु कुमार

  • कॉपी लिंक

जहानाबाद के 23 साल के सुधीर को 28 मार्च को हेलमेट नहीं पहनने पर पुलिस ने गोली मार दी थी। इस घटना को 15 दिन बीत चुके हैं। सुधीर का नालंदा के एक प्राइवेट अस्पताल में इलाज चल रही है। एक दिन का खर्चा 50 से 60 हजार रुपए है। परिवार अब तक उसके इलाज में 10 लाख से ज्यादा खर्च कर चुका है। पुलिस 2 दिन पहले अस्पताल आई थी, लेकिन सुधार का हालचाल पूछने नहीं। शरीर से निकाली बुलेट लेने।

दैनिक भास्कर की टीम नालंदा जिले के हिलसा के प्राइवेट अस्पताल पहुंची। वहां बेड पर सुधीर लेटा हुआ था। मां का रो-रोकर बुरा हाल था। पिता भी सदमे में थे। सुधीर इस घटना के बाद डरा हुआ है। बार-बार परिवार से पूछ रहा है। पापा मैं बच तो जाऊंगा ना…दैनिक भास्कर से बातचीत में सुधीर ने क्या कहा सबसे पहले वो जानिए…

डॉक्टर्स का कहना है कि सुधीर का हालत पहले से ठीक है। उसे जल्द डिस्चार्ज कर दिया जाएगा।

मैं 28 मार्च की सुबह करीब 9 बजे अपने घर कोरथू (नालंदा) से बंधुगंज (जहानाबाद) बाजार करने जा रहा था। छठ पूजा का सामान खरीदना था। अनंतपुर के पास पहुंचा तो वहां पुलिस चेकिंग कर रही है। ओकरी ओपी की पुलिस ने मुझे भी हाथ दिया। मेरे पास हेलमेट और लाइसेंस नहीं था। मैं डर गया था। बाइक से भागने लगा। इस बीच ओपी प्रभारी चंद्रहास कुमार ने कहा कि गोली चलाओ। इतना कहते ही वहां मौजूद एक कॉन्स्टेबल ने मेरे ऊपर गोली चला दी। पुलिस ने जानबूझ कर मेरे ऊपर गोली चलाई थी। ये मुझे अच्छे से याद है। इसके बाद क्या हुआ मुझे कुछ नहीं मालूम।

मां ने पूछा- मेरा बेटा अपराधी था क्या जो पुलिस ने सीने में गोली मारी।

मां ने पूछा- मेरा बेटा अपराधी था क्या जो पुलिस ने सीने में गोली मारी।

मेरा बेटा अपराधी था क्या?

सुधीर की मां समुंदरी देवी घटना का जिक्र करते ही रोने लगती है। वो पुलिस से सवाल पूछती हैं कि क्या उनका बेटा अपराधी था। उसका का क्या कसूर था जो उसे सीधे सीने में गोली मार दी गई। अपराधी तक को पुलिस पैर में गोली मारती है। इतना कहते ही वो फूट-फूट कर रोने लगती हैं। वो कहती हैं कि छठ पूजा को लेकर घर में खुशी का महौल था। कुछ देर पहले ही बेटा सामान लाने गया था। बाहर से बेटा खून से लथपथ आएगा जरा सी भी इसकी भनक नहीं थी। वो कहती हैं कि उनके बेटे की किसी से कोई दुश्मनी नहीं थी।

एक साल पहले ही सुधीर की शादी हुई है। घटना के बाद पत्नी का रो-रो कर बुरा हाल है। वो कुछ भी बोलने से इनकार कर रही है।

एक साल पहले ही सुधीर की शादी हुई है। घटना के बाद पत्नी का रो-रो कर बुरा हाल है। वो कुछ भी बोलने से इनकार कर रही है।

बार-बार भावुक हो जा रही है पत्नी, बोलने से किया इनकार

हम आगे बढ़े तो हमें अस्पताल में सुधीर की पत्नी मिली। दोनों की पिछले साल ही शादी हुई है। दहेज में मिली ग्लैमर बाइक से ही उसका पति बाजार करने जा रहा था। तभी ये घटना घटी। अपने पति को इस स्थिति में देखकर वह बार-बार भावुक हो जा रही थी। हमने बात करने की कोशिश की, लेकिन उसने कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया।

डॉक्टर ने कहा-मेजर ऑपरेशन कर निकाली गोली, अब खतरे से बाहर

पीड़ित का ट्रीटमेंट करने वाले डॉक्टर रजनीश कुमार रंजन ने बताया कि अब सुधीर की हालत काफी अच्छी है। गोली नजदीक से मारी गई थी जो सीने को चीरते हुए रीढ़ की हड्‌डी में जा फंसी थी। इसलिए मेजर सर्जरी हुई है। आधे टांके हटा दिए हैं। सुधीर अब खा पी रहा है। जल्द ही उसे घर भेज दिया जाएगा।

अब पुलिस की कहानी पढ़िए…

पुलिस ने इस मामले में रिलीज जारी करके पूरी घटनाक्रम को बताया है। पुलिस के मुताबिक जांच में पता चला कि शराब की सूचना मिली थी। इसके बाद ओपी प्रभारी, दो पुलिस पदाधिकारी और दो सिपाही के साथ अनंतपुर पुल के पास गांव से गुजरने वाली सड़क के बगल में मंदिर के पास चेकिंग कर रहे थे। तभी 9.50 बजे एक लड़का कंधे पर बैग टांगे बाइक से तेजी से आ रहा था।

उसे रोकने की कोशिश की गई, तो इन लोगों को क्रॉस करके भाग निकला। कुछ दूरी पर दूसरी तरफ चेकिंग कर रहे एक पदाधिकारी एवं दो पुलिसकर्मियों ने उसे हाथ देकर रुकने का इशारा किया, लेकिन इसी बीच बिना आदेश के पदाधिकारी ने अचानक अपने सर्विस रिवॉल्वर से भाग रहे लड़के को गोली मार दी। गोली लगने के बाद भी वह लड़का तेजी से भागने लगा। पुलिस ने उसका पीछा किया, लेकिन वह भाग निकला।

अब जान लीजिए मामले में अब तक क्या कार्रवाई की गई है?

घटना के बाद जहानाबाद SP दीपक रंजन ने तत्काल SDPO अशोक पांडे और घोषी थानाध्यक्ष के नेतृत्व में जांच टीम का गठन किया। मामला सही पाये जाने पर 29 मार्च को आरोपी ASI मुमताज अहमद के खिलाफ हत्या की कोशिश का केस दर्ज करते हुए उसे गिरफ्तार कर लिया गया और चेकिंग करने वाली पूरी टीम को सस्पेंड कर दिया गया। इस टीम में ओपी इंचार्ज चंद्रहास कुमार , ASI भीम कुमार, सिपाही विनय कुमार और सिपाही कुमार महेश शामिल थे।

ये खबरें भी पढ़िए…

बिना हेलमेट बाइक चला रहा युवक भागा तो गोली मारी:पीछा कर गोली मारने वाला ASI गिरफ्तार, पूरी चेकिंग टीम सस्पेंड

जहानाबाद में बिना हेलमेट बाइक चला रहा युवक (23) पुलिस चेकिंग देखकर भागा तो ASI ने उसका पीछा किया और गोली मार दी। घटना मंगलवार की है। युवक की हालत गंभीर बताई जा रही है। गोली मारने वाले ASI मुमताज अहमद को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया गया है। उसके ऊपर हत्या की कोशिश का केस दर्ज किया गया है। उसे कोर्ट में पेश करके जेल भेज दिया गया है। SP दीपक रंजन ने चेकिंग कर रही पूरी टीम को सस्पेंड कर दिया है। इस टीम में ओपी अध्यक्ष, ASI भीम कुमार, सिपाही विनय कुमार और सिपाही कुमार महेश शामिल हैं। पूरी रिपोर्ट पढ़ने के लिए यहां क्लिक करिए

हेलमेट के लिए ASI ने किसके कहने पर मारी गोली:सीधे सीने में लगी थी गोली, चश्मदीदों से जानिए क्या हुआ था

बिहार के जहानाबाद में 23 साल के सुधीर को हेलमेट नहीं पहनने पर पुलिस ने हिस्ट्रीशीटर की तरह दौड़ाकर गोली मार दी। दैनिक भास्कर ने मौके पर पहुंचकर मामले की सच्चाई जाननी चाही, जो चौंकाने वाली निकली। मंगलवार सुबह 9 बजे सुधीर अपने गांव कोरथू (नालंदा) से सामान लाने बंधुगंज बाजार (जहानाबाद) जा रहा था। अनंतपुर गांव में पुलिस की चेकिंग देख अपने गांव की तरफ भाग रहा था। उसके पास हेलमेट और ड्राइविंग लाइसेंस नहीं था। पूरी रिपोर्ट पढ़ने के लिए यहां क्लिक करिए

खबरें और भी हैं…



Source link