पूर्व मुख्यमंत्री की भांजी पर जानलेवा हमला का मामला: जानलेवा हमले के मामले में हम हुआ गोलबंद, 20 लोगों के खिलाफ केस दर्ज

0
41


गयाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

गया। झुमटा की रात पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी की भांजी केशरी देवी और उनके परिवार के ऊपर जान लेवा हमला की घटना अब तूल पकड़ने लगा है। केशरी देवी डोभी प्रखंड की कुरवामा पंचायत की पंचायत समिति सदस्य हैं। इस घटना के बाद से हिन्दुस्तान अवाम मोर्चा सेक्यूलर (हम) के पदाधिकारी गोलबंद हो गए हैं। सभी के सभी इस घटना को लेकर आक्रोश में हैं। हम पार्टी का एक शिष्ट मंडल राष्ट्रीय सचिव नंदलाल मांझी के नेतृत्व में मगध मेडिकल कॉलेज में डेरा डाले हुए हैं। वहीं दोपहर करीब एक बजे पूर्व मुख्यमंत्री जतीन राम मांझी भी अपनी भांजी और उनके परिवार का पुरसाहाल जानने के लिए मगध मेडिकल कॉलेज पहुंचे। उन्होंने घायलों से घटना की जानकारी ली। साथ ही में उन्होंने कहा कि संबंधित मामले में पुलिस के वरीय अफसरों से बातचीत कर ठोस कार्रवाई की मांग की जाएगी। दोषी को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा।

हम के शिष्टमंडल का नेतृत्व कर रहे नंदलाल मांझी का कहना है कि कुरमाआवां पंचायत के लोग के नहीं चाहते थे महादलित परिवार की महिला पंचायत चुनाव लड़े। बावजूद इसके केशरी देवी ने चुनाव लड़ा और जीत भी हासिल की। इस बात से कुछ जाति विशेष के लोग खुन्नस पाले थे। उसी खुन्नस में झुमटा की रात उन लोगों ने केशरी देवी के घर पर जानलेवा हमला बोला। उनके घर की महिलाओं के साथ अभद्रता की। उन्होंने कहा कि इस मामले में दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई नहीं हुई तो हम शांत नहीं बैठेगा।

वहीं दूसरी ओर जानलेवा हमला के मामले में केशरी देवी का लड़का अविनाश कुमार ने 20 लोगों के विरुद्ध नामजद केस डोभी थाने में दर्ज कराया है। केस में पवन कुमार, धर्मेंद्र कुमार, मदन कुमार, रविंद्र कुमार, अरविंद कुमार, योगेंद्र वर्मा, रंजीत कुमार वर्मा, छेदी प्रसाद, बलदेव प्रसाद, केदार प्रसाद समेत 20 लोग नामजद हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link