बिना मरीज के अस्पताल में तैनात थे मानव बल: मुजफ्फरपुर के सदर अस्पताल में नहीं आ रहा था कोई मरीज, फिर भी तैनात थे ट्राली मैन व सुरक्षा गार्ड; सिविल सर्जन ने तत्काल प्रभाव से हटाया

0
33


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Muzaffarpur
  • No Patient Was Coming To Muzaffarpur’s Sadar Hospital, Yet Trolley Men And Security Guards Were Stationed; Civil Surgeon Removed With Immediate Effect

मुजफ्फरपुरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

मुजफ्फरपुर सदर अस्पताल।

कोरोना काल में मुजफ्फरपुर के सदर अस्पताल में आउटसोर्सिंग पर बहाल किये गए 65 ट्राली मैन व सुरक्षा गार्ड को तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है। सिविल सर्जन डॉ. विनय शर्मा ने शनिवार देर शाम यह आदेश जारी किया। इसके बाद अस्पताल कर्मियों के बीच हड़कंप मच गया। हटाये जाने वालों में 28 ट्रॉली मैन और 37 सुरक्षा गार्ड हैं।

इस संबंध में अस्पताल प्रशासन ने बताया कि मरीज नहीं रहने के बावजूद पिछले दो माह से इन्हें रखने का मामला सिविल सर्जन के समक्ष आया। उन्होंने उपाधीक्षक से रिपोर्ट मांगी थी। रिपोर्ट आने के बाद सिविल सर्जन ने उक्त आदेश जारी किया।

एंटीजन कीट कलाबाज़ारी मामले के आरोपित हेल्थ मैनेजर प्रवीण के बारे में भी सिविल सर्जन ने उपाधीक्षक से पूछताछ की। उन्होंने कहा कि जब वह आरोपित है तो कैसे अस्पताल परिसर में आता है और काम भी करता है। उसे तत्काल हाज़िरी बनाने पर रोक लगाने का आदेश जारी किया।

बता दें कि तत्कालीन सिविल सर्जन डॉक्टर एसके चौधरी के कार्यकाल में 780 मानव बल के साथ ही करीब 100 सुरक्षा गार्ड और ट्रॉली मैन की बहाली आउटसोर्सिंग कंपनी के जरिए कर दी थी। मानव बल को सरकार के आदेश से पहले ही हटाया जा चुका है। सौ सुरक्षा गार्ड और ट्रॉली मैन में कुछ को पहले हटाया गया था। शेष जो बच गए थे उन्हें आज हटाने का आदेश जारी कर दिया गया।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here