बिहार में शराब नहीं तो नीरा ही सही: 1अप्रैल से पार्क और ZOO के गेट पर होगी नीरा की बिक्री, पटना में 51 नए सेंटर बनेंगे

0
22



पटना13 मिनट पहले

जू के पास नीरा का लुत्फ उठाएंगे लोग।

बिहार में शराबबंदी है, सरकार अब विकल्प ला रही है। राज्य में जहरीली शराब से हो रही मौत पर काबू पाने के लिए सरकार नीरा स्टॉल लेकर आ रही है। राज्य के 38 जिलों में नीरा का बिक्रगी केंद्र बनाए जा रहे हैं। पटना में भी 51 सेंटर बनाए जा रहे हैं, जहां एक अप्रैल से नीरा की बिक्री होगी। पटना के चिड़िया घर के गेट के सामने भी बिक्री केंद्र बनाए जा रहे हैं।

जानिए पटना में कहां मिलेगी नीरा

पटना में नीरा बिक्री के लिए 51 सेंटर बनाए गए हैं। इन सेंटर के माध्यम से ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्र में अप्रैल के प्रथम सप्ताह से नीरा की बिक्री होगी। इसके अंतर्गत प्रखडों मे 44 नीरा बिक्री केंद्र शुरू किए जाएंगे तथा पटना नगर निगम क्षेत्र में 7 बिक्री केंद्र शुरू होंगे। पीएमसी एरिया के अंतर्गत इको पार्क, चिड़ियाखाना गेट नंबर एक, चिड़ियाखाना गेट नंबर 2, सगुना मोड़, मीठापुर, आईएसबीटी बैरिया और उद्योग भवन के पास नीरा की बिक्री का स्टॉल लगाया जाएगा। पटना के डीएम डॉ चंद्रशेखर सिंह ने शराबबंदी और नीरा के उत्पादन एवं बिक्री को लेकर समीक्षा की है। समीक्षा के दौरान सेंटर तए किए गए जहां नीरा की बिक्री होगी।

हर प्रखंड में 2 से 3 सेंटर

पटना के सभी प्रखंडाें में नीरा बिक्री केंद्र बनाए जा रहे हैं। टारगेट के रूप में औसतन 40 से 50 लीटर प्रतिदिन प्रति सेंटर से बिक्री किए जाने का प्लान है। औसतन लगभग 2.10 लाख लीटर प्रति 3 माह में बिक्री किए जाएंगे। इसकी पूरी योजना बनाई गई है। पटना में चल रही प्रशासनिक तैयारियों के मुताबिक सभी सेंटर की निगरानी होगी और वहां नीरा की बिक्री को लेकर पूरा ध्यान दिया जाएगा।

एक लक्ष्य तय कर दिया जाएगा और उसके अनुसार नीरा की बिक्री होगी। नीरा की गुणवत्ता और मानक का विशेष ध्यान रखने का निर्देश दिया गया है, इसके साथ ही नीरा के फायदे के बारे में भी आम लोगों को बताना है। इसके लिए सभी सेंटरों पर फ्लेक्स लगाने का निर्देश दिया गया है। जीविका के डीपीएम को निर्देश दिया गया है।

22 प्रखंडो में 22 उत्पादक समूह

पटना जिला के बेलछी प्रखंड को छोड़कर 22 प्रखंडों में 22 उत्पादक समूह गठित किए गए हैं। इस रोजगार से जुड़े लोगों के जीविकोपार्जन की योजना से लाभान्वित करने की प्रक्रिया चालू है। इसके लिए सर्वे का काम भी कराया जा रहा है। इस क्रम में ग्रामीण क्षेत्रों में 5585 तथा शहरी क्षेत्र में 913 का रिपोर्ट प्राप्त हुए हैं, जिसमें से 5000 रुपए से कम आमदनी वालों को विशेष जीवकोपार्जन योजना से लाभान्वित किया जाएगा।

30 दिन में 5 करोड़ के वाहन नीलाम

पटना में शराबबंदी को लेकर कार्रवाई तेज कर दी गई है। पटना में शराबबंदी अभियान के तहत जनवरी से मार्च तक 918 वाहनों की नीलामी के द्वारा 53849664 रुपए जमा कराया गया है। पटना सदर अनुमंडल में 404 वाहन की नीलामी हुई है। दानापुर अनुमंडल में 135, बाढ़ अनुमंडल में 41, मसौढ़ी अनुमंडल में 106, पालीगंज अनुमंडल में 30 तथा पटना सिटी अनुमंडल में 202 वाहन की नीलामी की गई।

30 दिन में 657 लोगों की गिरफ्तारी

मार्च माह के 30 दिन में 1645 जगह छापेमारी की गई जिसमें 608 मुकदमा दर्ज किया गया है। इस दौरान 657 व्यक्तियों की शराबबंदी कानून तोड़ने में कार्रवाई की गई है। आंकड़ाें के मुताबिक कुल 657 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। इसके साथ ही 13184.173 लीटर शराब भी 30 दिनाें में जब्त किया गया है। मार्च माह में 7855.225 लीटर शराब नष्ट किया गया है।

खबरें और भी हैं…



Source link