बिहार सरकार अब तक झूठ बोलती रही: 14 महीने बाद सामने आए प्रधान सचिव ने कहा- सही नहीं था कोरोना से मौत का डेटा, 5458 नहीं, 9375 लोगों की गईं हैं जानें

0
16


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Health Secretary Said 9375 People Have Died Due To Corona Not 5458 Till 8th June 2021

पटना5 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

स्वास्थ्य विभाग बिहार में कोरोना से हुई मौतों का आंकड़ा छिपा रहा था। मौत का आंकड़ा 72% कम बताया जा रहा था। यह कबूलनामा बिहार के स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत का है। उन्होंने बुधवार को ऑनलाइन प्रेस काॅन्फ्रेंस कर बताया कि इसका खुलासा दो स्तर से कराई गई जांच में हुआ है। बताया कि स्वास्थ्य विभाग ने राज्य में 8 जून तक कोरोना से 5458 मौत का आंकड़ा बताया था, जो गलत है। वास्तविक आंकड़ा 9375 है।

सरकार अपनी गलती तो स्वीकार कर रही है, लेकिन कुतर्क कर अपना बचाव भी कर रही है। अब तर्क दिया जा रहा है कि जो आंकड़े बढ़े हैं, उसमें होम आईसोलेशन और अस्पताल में जाने के दौरान रास्ते में होने वाली मौत भी शामिल है। आपको बता दें कि कुछ दिन पहले मौत के आंकड़ों में चोरी का खुलासा पटना जिला प्रशासन की समीक्षा में भी हुआ था।

दो स्तर पर बनी कमेटी की जांच में खुला मौत का राज

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव प्रत्यय अमृत का कहना है कि कोरोना से होने वाली मौत में जिलों से आंकड़ा नहीं भेजा जा रहा था। कोरोना से होने वाली मौतों की समीक्षा कराई गई है। एक में मेडिकल कॉलेज के अधीक्षक व प्रिंसिपल के साथ मेडिसिन विभाग के HOD को रखा गया था। दूसरी टीम में सिविल सर्जन-ACMO के साथ एक अन्य मेडिकल अफसर को शामिल किया गया था। समीक्षा में यह बात सामने आई कि कोरोना से मौत के आंकड़ों को अपडेट नहीं किया जा रहा था। ऐसे लोगों पर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है, जहां से इस तरह की मनमानी की जा रही थी।

23 दिन में उठ गया मौत से पर्दा

स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव ने 18 मई को कमेटी गठित कर कोरोना से होने वाली मौत की समीक्षा का आदेश दिया था। मेडिकल कॉलेज और जिलों से हुई समीक्षा में पाया गया कि 72% मौत रिकॉर्ड में आई ही नहीं है।

प्रधान सचिव ने माना है कि इस संवेदनशील मामले में विभाग में काफी असंवेदनशीलता की गई है। इसका जिम्मेदार जो होगा उसे भुगतना होगा। लेकिन इतनी बड़ी लापरवाही पर कार्रवाई कितने लोगों पर की गई इस सवाल पर प्रधान सचिव चुप्पी साध गए।

जानिए कैसे पड़ा था आंकड़ों पर पर्दा

  • स्वास्थ्य विभाग हर दिन कोरोना का आंकड़ा जारी करता है।
  • अब तक मौत के आंकड़ों को लेकर कभी सवाल नहीं खड़ा किया गया था।
  • दूसरी लहर में मौत का ग्राफ तेजी से बढ़ा तो आंकड़ों पर पर्दा पड़ गया।
  • स्वास्थ्य विभाग का मानना है कि कोरोना से होने वाली मौत की जानकारी छिपाई गई।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here