ब्लैक फंगस के लिए AIIMS में अब चार OT: एक दिन में 20 मरीजों का हो सकेगा ऑपरेशन, PMCH में व्यवस्था नहीं होने के कारण AIIMS में बढ़ गया है लोड

0
11


पटना16 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

AIIMS पटना।

पटना मेडिकल कॉलेज (PMCH)में ब्लैक फंगस का ऑपरेशन नहीं हो पा रहा है। इस कारण पटना AIIMS और IGIMS में मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ गई है। ऐसे में ऑपरेशन को लेकर समस्या हो गई है। मरीजों की भीड़ बढ़ने के कारण पटना AIIMS में ऑपरेशन के लिए OT बढ़ानी पड़ी। पहले एक दिन में मात्र 10 ऑपरेशन होते थे, लेकिन अब संख्या बढ़ाकर 4 गुना कर दी गई। अब एक दिन में 20 ऑपरेशन किए जाएंगे। गुरुवार को नई OT चालू होते ही ऑपरेशन का इंतजार कर रहे मरीजों को थोड़ी राहत मिली है, लेकिन PMCH में ऑपरेशन नहीं होने से मरीजों की जिंदगी पर खतरा मंडरा रहा है।

मरीजों का लोड देख बढ़ाई गई OT
पटना AIIMS में मरीजों की भीड़ लगातार बढ़ रही है। ऐसे मरीजों की संख्या अधिक है, जो प्राइवेट और अन्य सरकारी अस्पतालों से आ रहे हैं। ऐसे मरीजों को ऑपरेशन काफी जरूरी है। PMCH में ऑपरेशन नहीं हो रहा है, इस कारण रेफर होने वाले मरीजों को तत्काल ऑपरेशन करना पड़ता है। ऐसे में मरीजों की भीड़ बढ़ती गई और इससे अब दो नए ऑपरेशन थिएटर भी तैयार कर दिए गए हैं। ENT की HOD डॉ क्रांति भावना का कहना है कि पहले एक दिन में 10 ऑपरेशन होता था, क्योंकि दो OT ही काम कर रही थी। ऐसे में अब दो और OT को चालू किया गया है, जिससे एक दिन में 20 मरीजों का ऑपरेशन कर लोड कम किया जा सके।

पटना मेडिकल कॉलेज की कब सुधरेगी व्यवस्था
पटना मेडिकल कॉलेज में भर्ती ब्लैक फंगस के मरीजों की जान पर व्यवस्था भारी पड़ रही है। डॉक्टरों का कहना है कि ब्लैक फंगस के हर मरीज का ऑपरेशन करना काफी जरूरी है, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। संसाधन नहीं होने के कारण पटना मेडिकल कॉलेज में व्यवस्था नहीं बन पा रही है। ऐसे में काफी समस्या आ रही है। मरीजों को पहले दवा से इलाज करने की कोशिश की जा रही है और जब आराम नहीं मिलता है तो उन्हें ऑपरेशन के लिए रेफर किया जाता है।

70 बेड पर दिखावे का इलाज
पटना मेडिकल कॉलेज में ब्लैक फंगस के मरीजों के लिए ENT और EYE डिपार्टमेंट को मिलाकर 70 बेड की व्यवस्था की गई है, लेकिन ऑपरेशन की सुविधा नहीं मिल रही है। इस कारण मरीजों की जान पर संकट है। यहां भर्ती एक महिला के परिजन संतोष का कहना है कि दवाएं तक नहीं मिल पा रही हैं। कई दिनों तो इंजेक्शन ही नहीं मिलता है। इस कारण से समस्या आ रही है। ऑपरेशन के लिए भी बताया नहीं जा रहा है। मनोज कुमार और सुमित्रा का भी कहना है कि उनके रिश्तेदार पटना मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं, लेकिन इलाज से कोई आराम नहीं मिल रहा है।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here