यह गलत है…आईआईटी नहीं तो जिंदगी नहीं: तनाव से बेटे काे निकालने पिता पहुंचे पटना, लाॅज का लाेकेशन भेज वह फांसी के फंदे पर झूल गया

0
11


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Patna
  • Father Reached Patna To Take Son Out Of Tension, Sent The Location Of The Lodge, He Hanged On The Noose

पटनाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

शुभ्रांशू अपने क्लास का टॉपर था।

पत्रकार नगर थाना क्षेत्र के योगीपुर के पास स्थित साईं ब्वायज हॉस्टल में रहने वाले 18 वर्षीय छात्र शुभ्रांशू राज ने फंदे से लटककर मंगलवार को आत्महत्या कर ली। शुभ्रांशू राज मूलरूप से झारखंड के पलामू के जपला का रहने वाला था। पटना में रहकर वह आईआईटी की तैयारी कर रहा था। पिछले साल उसका सलेक्शन नहीं हुआ था। इस बार भी उसकी तैयारी अच्छी नहीं थी। इस कारण वह काफी तनाव में रह रहा था।

तनाव की जानकारी होने के बाद मंगलवार को उसके पिता कंचन प्रसाद सिंह पटना पहुंचे थे। पिता काे गूगल लाेकेशन भेजने के बाद और उनके कमरे तक पहुंचने से पहले ही शुभ्रांशू ने रूम में लगे पंखे में फंदा लगाकर आत्महत्या कर ली। पत्रकार नगर थानेदार मनोरंजन भारती ने कहा कि छात्र कुछ दिनों से परेशान रहा था। उसके पिता ने भी यही बताया है। मामले की जांच की जा रही है।

फोन पर कई बार उसे समझा चुके थे, अब आए थे बैठकर समझाने: पिता कंचन प्रसाद जपला में ही एक कालेज में लेक्चरर हैं। उन्होंने कहा कि उनका बेटा काफी परेशान चल रहा था। वह फोन पर कई बार उसे समझा चुके थे। मंगलवार को वो उसे ही समझाने और उससे मिलने के लिए पटना आ रहे थे। इस बात की जानकारी शुभ्रांशू को भी थी। कंचन जब राजेंद्र नगर टर्मिनल पर पहुंचे, तब उन्हें उनके बेटे ने ही फोन किया था।
उसने पिता को अपने लॉज का गूगल लोकेशन भी भेजा और कमरे पर आने को कहा। कंचन ने कहा कि जब मैं योगीपुर पहुंच गया ताे बेटे ने फोन उठाना बंद कर दिया। इसके बाद हमने उसके लॉज मालिक को बताया और वे उसके कमरे तक पहुंचे और गेट को धक्का देकर खोला तो वह फंदे से लटक रहा था। पिता ने कहा कि हम भी कुछ ही मिनटों में वहां पहुंच ही गए थे।

अपने क्लास का था टॉपर, भाई रह रहा है कोटा में
पिता कंचन ने कहा कि शुभ्रांशू को दसवीं में 94.8 प्रतिशत नंबर आया था। वह अपने क्लास का टॉपर था। इसके बाद दो साल के लिए वह कोटा चला गया। पिछले साल जब उसका आईआईटी में सलेक्शन नहीं हुआ, तब से वह परेशान चल रहा था। इस बार भी उसकी तैयारी अच्छी नहीं थी। हम बार बार उसे समझाते थे। इधर लॉज के छात्रों ने भी कहा कि हमलोग उसे हमेशा पढ़ते ही देखते थे।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here