ये तो पुलिस की गुंडागर्दी है: पटना के पालीगंज में बाप-बेटे की जमकर हुई पिटाई, कटघरे में ट्रेनी DSP और थाने के ASI, पुलिस मुख्यालय ने दिए जांच के आदेश

0
33


Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

पटना2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

शरीर पर पिटाई के निशान दिखाता विकास कुमार।

पटना के पालीगंज में एक बाप-बेटे की जमकर पिटाई की गई है। पहले दोनों को रोड पर पीटा गया। फिर थाना ले जाकर उनकी जमकर पिटाई की गई। बाप के सामने उसके जवान बेटे पर खूब डंडे बरसाए गए। पिटाई के निशान फोटो में साफ तौर पर दिखाई दे रहे हैं। खौफनाक तरीके से बाप-बेटे की पिटाई की जाने का गंभीर आरोप पटना पुलिस पर लगा है। इस मामले में कटघरे में एक ट्रेनी DSP और पालीगंज थाना का ASI है।

लॉकडाउन का उल्लंघन के आरोप में पीटने लगे

पूरा मामला 23 मई का है। भूषण वर्मा पालीगंज के बाबा बोरिंग रोड इलाके के रहने वाले हैं। इनके बेटे विकास कुमार को उस दिन शाम में संपूर्ण क्रांति एक्सप्रेस से नई दिल्ली जाना था। इसलिए सुबह में 7 बजे के करीब जरूरी सामान लेने के लिए दोनों एक साथ बाइक से बाजार गए थे। चंढोस रोड में लाला जी के गणेश मिल के सामने बाइक खड़ी कर सामान खरीदने लगे थे। इसी बीच पूर्व दिशा की तरफ से एक ब्लैक कलर की स्कॉर्पियो आई और उसने बाइक में धक्का मार दिया। बाइक रोड पर गिर गई। इस पर विकास और स्कॉर्पियो वाले के बीच विवाद हो रहा था। उसी दरम्यान पुलिस की गाड़ी आई, जिसमें ट्रेनी DSP राजीव कुमार सिंह और ASI प्रदीप कुमार व इनके साथ 16 जवान थे। भूषण वर्मा का आरोप है कि पुलिस वाले बाइक में धक्का मारने वाले स्कॉर्पियो के ड्राइवर को वहां से 15 कदम दूर अपने साथ ले गए। उसके साथ बातचीत की। फिर वापस आकर लॉकडाउन का उल्लंघन कहने की बात कह गाली-गलौज करने लगे। आरोप है कि जब बाप-बेटों ने गाली-गलौज का विरोध किया तो पुलिस वालों ने उनकी पिटाई शुरू कर दी।

थाने के लॉकअप में भी किया अभद्र व्यवहार

थाना ले जाकर लॉकअप में रखा गया। वहां भी अभद्र व्यवहार किया गया। दोनों के मोबाइल फोन को जब्त कर लिया गया था। ASI प्रदीप के निर्देश पर बेटे को पीछे के कमरे में ले जाया गया और वहीं पर उसकी जमकर पिटाई की गई। विरोध करने पर दूसरे आपराधिक केस में दोनों को जेल भेज देने की धमकी दी गई। जब इस बात की जानकारी परिवार और इलाके के लोगों को हुई तो सभी थाना पर पहुंचे। पिटाई की वजह से दोनों की हालत गंभीर थी। पास के सरकारी हॉस्पिटल में इलाज कराया गया। इसके बाद वापस थाना पर लाकर PR बांड भरवाकर छोड़ा गया।

SDPO से की गई लिखित शिकायत

इस मामले में भूषण वर्मा ने पालीगंज के SDPO से मिलकर लिखित शिकायत की है। पिटाई से जुड़े सारे सबूत दिए हैं। बेटे के नई दिल्ली जाने वाले ई टिकट को भी साथ में दिया है। साथ ही रोड से लेकर थाना तक ट्रेनी डीएसपी और ASI के उपर अपराधियों की तरह व्यवहार करने और रिश्वत लेकर स्कॉर्पियो के ड्राइवर को छोड़ने का गंभीर आरोप लगाया है। पटना में बुधवार को यह मामला सामने आया है। इस मामले को पुलिस मुख्यालय ने गंभीरता से लिया है। ADG मुख्यालय जितेंद्र कुमार के अनुसार इस मामले में जांच के आदेश दिए गए हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here