Home Bihar रोहतास के मांझर कुंड को लेकर खुली प्रशासन की नींद: सरकारी अधिकारी की डूबने से हुई मौत तो प्रशासन अलर्ट, डीएम ने मांझर कुंड के पास सिक्योरिटी को लेकर बनाई 2 अफसरों की टीम

रोहतास के मांझर कुंड को लेकर खुली प्रशासन की नींद: सरकारी अधिकारी की डूबने से हुई मौत तो प्रशासन अलर्ट, डीएम ने मांझर कुंड के पास सिक्योरिटी को लेकर बनाई 2 अफसरों की टीम

0
रोहतास के मांझर कुंड को लेकर खुली प्रशासन की नींद: सरकारी अधिकारी की डूबने से हुई मौत तो प्रशासन अलर्ट, डीएम ने मांझर कुंड के पास सिक्योरिटी को लेकर बनाई 2 अफसरों की टीम

[ad_1]

  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Manjhar Kund: Bihar Administration Alert After Government Official Dies Due To Drowning

रोहतास23 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
मांझर कुंड के पास पर्यटकों की भीड़। - Dainik Bhaskar

मांझर कुंड के पास पर्यटकों की भीड़।

जिले में कैमूर पहाड़ी स्थित मांझर कुंड सुरक्षा के अभाव में एक डेंजर जोन के रूप में तब्दिल हो गया है। बरसात में पिकनिक स्पॉट के रूप में मशहूर हो चुके मांझर कुंड में पिछले दो महीनों में एक दर्जन लोगों की मौत हो चुकी है। लेकिन, प्रशासन हाथ पर हाथ धरे बैठा रहा। अफसर की मांझर कुंड में डूबने से मौत होने के बाद प्रशासन की नींद अब जाकर टूटी है।

मांझर कुंड के पास सेफ्टी को लेकर हुई बैठक।

मांझर कुंड के पास सेफ्टी को लेकर हुई बैठक।

मांझर कुंड में लगातार हो रहे हादसे

सोमवार को डीएम ने अधिकारियों के साथ बैठक कर मांझर कुंड क्षेत्र में सेफ्टी-सिक्योरिटी के बिंदुओं की चर्चा की। इसके बाद दो अधिकारियों की टीम का गठन किया। टीम में सासाराम अनुमंडल के एसडीएम एवं एसडीपीओ शामिल हैं। अब ये दोनों अधिकारी मांझर कुंड में लगातार हो रही दुर्घटनाओं के संदर्भ में संयुक्त रूप से उक्त स्थल का भौतिक निरीक्षण करते हुए वहां सेफ्टी एवं सिक्योरिटी के उपायों के बारे में विस्तृत सुझाव देंगे। जिसका अनुपालन सुनिश्चित किया जाएगा।

रविवार को हुई थी कनीय अभियंता की डूबने से मौत
उल्लेखनीय है कि भवन निर्माण विभाग के कनीय अभियंता की मौत रविवार 5 सितंबर को मांझर कुंड में डूबने से हो गई थी। वे अपने परिवार के साथ मांझर कुंड पिकनिक मनाने गए थे। इस घटना के बाद प्रशासनिक हलकों में मांझर कुंड के खतरनाक डेंजर जोन में बदलने की चर्चा जोरो पर थी।

घटना के 24 घंटे के अंदर ही डीएम संज्ञान लेते नजर आए। जबकि जून, जुलाई एवं अगस्त माह में यहां एक दर्जन से अधिक लोगों की मौत मांझर कुंड में डूबने से हो गई थी, परंतु प्रशासन द्वारा मांझर कुंड में सुरक्षा को लेकर अबतक कोई पहल नहीं की गई थी।

खबरें और भी हैं…

[ad_2]

Source link