लोगों में आक्रोश: डीजल महंगा होने के कारण बाहर से आ रही सभी हरी सब्जियां हुई 50 रुपए किलो के पार

0
17


सिसवा31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

महंगाई की मार सह हरी सब्जी खरीदते लोग।

  • आम लोगों की थाली से गायब हो रही टमाटर सहित हरी सब्जियां,

सब्जियों के लगातार बढ़ती कीमत अब पहाड़पुर में भी लोगो को प्रभावित करने लगा है़। महंगाई की मार के कारण भोजन की थाली से कई आइटम कम हो चुके हैं। जबकि पहाड़पुर प्रखंड के कई ग्रामीण क्षेत्र सब्जी का बड़ा उत्पादक क्षेत्र है। बावजूद शहरों की अपेक्षा ग्रामीण बाजारों में मंहगी सब्जियों का बिकना काफी आश्चर्यजनक है। खाद्य सामग्रियों के कीमत में लगातार बढ़ोतरी होने के कारण आमजनों को खासी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं इसका गहरा असर किचन के बजट पर भी पड़ा है। यही स्थिति कई अन्य सब्जियों की भी है। सब्जियों की बढ़ती कीमत तो थमने का नाम ही नहीं ले रही है। हाल यह है कि निम्न वर्ग तो दूर मध्यम वर्ग व हरेक नौकरी पेशा वाले लोग लगातार बढ़ती महंगाई से तंग हो चुके हैं। पहले ही थाली से पौष्टिक चीजें दूर हो चुकी है। अब तो सामान्य भोजन भी थाली से दूर हो रहा है पहले गरीब-मजदूर सत्तू-रोटी के साथ प्याज खा कर स्वाद बढ़ा लेते थे अब तो प्याज की कीमत भी आसमान छूने पर है। पहाड़पुर प्रखंड क्षेत्र के बाजारों में फूलगोभी 50-55 रुपए, टमाटर 80 रुपए, हरा मिर्च 70-80 रुपए, परवल 40-50, आलू 20-22 तो करेला 30-40 प्रति किलो बिक रहे है। केंद्र और सूबे के सरकार की तरफ से डीजल के दामों में कमी करने के बाद भी सब्जियों के बढ़ते दामों से आम लोगाें को राहत नहीं मिल रही है। डीजल सस्ता होने के बाद भी बाजार में सब्जियों के दामों में कमी नहीं आई। सब्जियों की कीमतों ने रसोई का बजट बिगाड़ दिया है। आम आदमी की थाली से सब्जियां गायब हो रही हैं। सब्जियों की इतनी दाम बढ़ गई है की आम आदमी को सब्जी खरीदने में सोचना पड़ रहा है।

खबरें और भी हैं…



Source link