शिक्षक अभ्यर्थियों का ट्वीटर महासंग्राम: नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी भी मुहिम में हुए शामिल, देश में टॉप ट्रेंडिंग टॉपिक बना

0
19


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar Teacher Candidates Twitter Movement Demanding Appointment Letters Trending At Number One In Country

पटना6 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

बिहार में चयनित शिक्षकों को नियुक्ति पत्र देने में हो रही देरी के खिलाफ 21 नवंबर को दोपहर एक बजे से बिहार के शिक्षक अभ्यर्थियों ने ट्वीटर महासंग्राम का आयोजन किया। इसके तहत ट्वीटर पर हैशटैग #GiveBiharTeachersAppointment चलाया गया। अभ्यर्थियों और उनके परिजनों ने लाखों की संख्या में ट्वीट किया। देखते ही देखते कुछ ही मिनटों में यह इंडिया में एक नंबर पर ट्रेंड करने लगा। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव भी इस मुहिम में शामिल हो गए। उन्होंने ट्वीट किया – ‘ना शर्म, ना दर्द, ना संवेदना, ना वादाखिलाफी का डर, ना जिम्मेदारी का एहसास, ना वर्तमान और भविष्य की चिंता! बिहार में शिक्षकों के 3 लाख से अधिक पद रिक्त होने एवं भारी बेरोजगारी के बावजूद शिक्षक बहाल करने में नीतीश सरकार का ऐसा लचर व ढुलमुल रवैया क्यों है?’

जब तक नियुक्ति पत्र नहीं मिलता बिहार की दयनीय शिक्षा व्यवस्था को दिखाते रहेंगे

ट्विटर महासंग्राम का आयोजन शिक्षक अभ्यर्थी संघ के सौरभ कुमार के द्वारा किया गया था। उन्होंने कहा कि जब तक बिहार सरकार के द्वारा नियुक्ति पत्र के लिए शॉर्ट शेड्यूल का पत्र जारी नहीं किया जाता है तब तक हम लोग इसी तरह आंदोलनरत रहेंगे और पूरे देश को बिहार की दयनीय शिक्षा व्यवस्था से अवगत कराते रहेंगे। टीईटी- एसटीईटी उत्तीर्ण नियोजित शिक्षक संघ (गोपगुट) भी शिक्षक अभ्यर्थियों के समर्थन में उतर आया।

3 लाख से ज्यादा पद खाली पर 38 हजार चयनित को नियुक्ति पत्र देने में भी देर

टीईटी- एसटीईटी उतीर्ण नियोजित शिक्षक संघ के प्रदेश प्रवक्ता अश्विनी पांडेय ने कहा कि बिहार में शिक्षकों के लगभग 3 लाख से अधिक पद खाली हैं फिर भी सरकार 38 हजार चयनित शिक्षकों को नियुक्ति पत्र देने में आनाकानी कर रही है। अगर बिहार सरकार सच में बिहार में गुणवत्तापूर्ण शिक्षा चाहती है तो अविलंब सभी टीईटी ,सीटीईटी, एसटीईटी पास अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र दे।

कई संगठनों ने समर्थन करते हुए सरकार को घेरा

शिक्षकों के समर्थन में राजद के अरुण यादव और चितरंजन गगन सहित कई नेताओं ने ट्वीट किया। कांग्रेस ने भी शिक्षक अभ्यर्थियों के समर्थन में ट्वीट किया। गुंजन पटेल सहित दर्जनों कांग्रेस नेता इस मुहिम का समर्थन कर सरकार से नियुक्ति पत्र नहीं देने पर सवाल पूछा। माले विधायक संदीप सौरव भी इस मुद्दे पर सरकार से सवाल पूछते दिखे। शिक्षक अभियार्थियो ने पोस्टर और वीडियो के जरिए बिहार के शिक्षा अधिकरियों और शिक्षा मंत्री को टैग कर अपनी बातों को उन तक पहुंचाया। ट्वीटर पर चले महासंग्राम में सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहे युवाओं, आईसा, यूथ फॉर स्वराज, युवा हल्ला बोल, एन एस यू आई , टीचर्स एकेडमी आदि संगठनों ने भी ट्वीट कर समर्थन किया।

खबरें और भी हैं…



Source link