सांसद ने राशन के लाभों को टीकाकरण से जोड़ा

0
15


उचित मूल्य की दुकानों पर खाद्यान्न केवल उन्हीं को दिया जाएगा, जिन्होंने COVID-19 के खिलाफ दोनों खुराक ली हैं

मध्य प्रदेश सरकार ने निर्णय लिया है कि सभी उचित मूल्य की दुकानों पर रियायती या मुफ्त खाद्यान्न केवल उन्हीं को दिया जाएगा, जिन्हें कोविड-19 का पूर्ण टीकाकरण किया गया है।

खाद्य और नागरिक आपूर्ति विभाग के 7 नवंबर, 2021 के एक आदेश में कहा गया है, “लाभार्थियों को सूचित किया जाना चाहिए कि योजना का लाभ उठाने के लिए टीके की दोनों खुराक अनिवार्य हैं”।

राज्य सरकार ने बुधवार को एक मेगा टीकाकरण अभियान शुरू किया।

मध्य प्रदेश के जनसंपर्क विभाग ने कहा, “दोपहर 1 बजे तक करीब 6.50 लाख शॉट दिए गए।”

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि जिन नागरिकों ने पहली खुराक ली है लेकिन दूसरी खुराक नहीं ली है, वे टीकाकरण के लिए आगे आएं।

टीकाकरण कवरेज में सुधार के लिए राज्य सरकार की सहायता के लिए कई जिला प्रशासन और व्यापारियों ने अभिनव उपाय किए हैं।

एक अधिकारी ने कहा कि व्यापारियों नमकीन तथा सेव पश्चिमी मध्य प्रदेश के रतलाम जिले में (पारंपरिक स्वादिष्ट) यह कहने के लिए एक साथ आए हैं कि वे केवल उन ग्राहकों की सेवा करेंगे जिन्हें टीका लगाया गया है। जिला सेवइयों के निर्माण का केंद्र है। अधिकारी ने बताया कि जिले की करीब 76 फीसदी आबादी को टीका लगाया जा चुका है।

राज्य की व्यावसायिक राजधानी इंदौर के प्रशासन ने कई लोकप्रिय स्थानों पर उन लोगों के प्रवेश पर रोक लगा दी है जिन्होंने टीका नहीं लिया है। कुछ स्थानों में छप्पन दुक्कन (स्थानीय व्यंजनों की पेशकश करने वाला बाज़ार), इंदौर चिड़ियाघर और सार्वजनिक उद्यान शामिल हैं। जिन लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ है, उन्हें इंटर-सिटी और इंट्रा-सिटी सरकारी बसों का उपयोग करने की अनुमति नहीं है।

राज्य के मंदिरों के शहर उज्जैन में, तीर्थयात्रियों को होटल, लॉज और में बुकिंग की अनुमति नहीं है धर्मशालाओं यदि उनका टीकाकरण नहीं हुआ है।

ग्वालियर जिले में कुछ पेट्रोल पंपों ने दोनों खुराक न लेने वाले ग्राहकों को मिलने से मना करना शुरू कर दिया है।

मध्य प्रदेश ने मंगलवार को 3.51 लाख वैक्सीन खुराकें दीं, जिससे राज्य में अब तक दी गई 7.62 करोड़ वैक्सीन की खुराक मिल गई। एक अधिकारी ने कहा कि मौजूदा अभियान 31 दिसंबर तक सभी पात्र लोगों को वैक्सीन की दूसरी खुराक दिलाने का है।

श्री चौहान ने समीक्षा बैठक की जिसमें स्वास्थ्य एवं कल्याण मंत्री प्रभुराम चौधरी, चिकित्सा शिक्षा मंत्री विश्वास सारंग सहित गृह एवं स्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

.



Source link