सीतामढ़ी में अवैध रूप से संचालित पटना हॉस्पिटल सील: संचालक गिरफ्तार, इस प्राइवेट हॉस्पिटल में हुई थी महिला की मौत; स्वास्थ्य विभाग ने की कार्रवाई

0
18


सीतामढ़ी31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

हॉस्पिटल को सील करते अधिकारी।

सीतामढ़ी के बेला थाना क्षेत्र अंतर्गत कन्हमां गांव स्थित अवैध रूप से संचालित एक पटना हॉस्पिटल नाम से चलने वाले निजी क्लिनिक को सील किया गया है। वहीं उसके संचालक को भी गिरफ्तार किया गया है। उक्त कार्रवाई पीएचसी के प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी ने की है। दरअसल, उक्त क्लीनिक में इलाज के दौरान एक महिला की मौत हो गई थी। इसके बाद उसके परिजनों ने सीएस सीतामढ़ी से इसकी शिकायत की। इसके बाद सीएस ने उक्त क्षेत्र के पीएचसी प्रभारी आरपी शाही को क्लिनिक को सील करने का आदेश जारी किया।

इसके बाद बुधवार की साम बेला थाना क्षेत्र अंतर्गत कन्हवा स्थित पटना हॉस्पिटल नामक एक निजी क्लीनिक को सील किया गया। वहीं उसके संचालक स्वपन्नील सौरभ को भी गिरफ्तार कर गुरुवार को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया। मामले में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ आरपी शाही ने बेला थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई है। डॉक्टर शाही ने बताया है कि दूरभाष के माध्यम से सूचना मिली थी कि कन्हमां गांव स्थित पटना हॉस्पिटल नामक में एक मरीज की मृत्यु हो गई है। इसकी जांच के लिए स्वास्थ्य विभाग की टीम के उक्त हॉस्पिटल में पहुंचा। और उस दौरान संचालक के द्वारा हॉस्पिटल के निबंध पत्र नही दिखाया गया।

इसके बाद घटना स्थल पर गई उक्त टीम ने बुधवार की साम सील कर दिया गया। हालांकि टीम ने बताया की परिजनों से बातचीत में पता चला कि मरीज की मौत क्लीनिक लाने के क्रम में ही हो गई थी। इसके बावजूद जांच के दौरान हॉस्पिटल का निबंधन प्रमाण पत्र नही दिया गया। मांगे जाने पर संचालक ने बीते 8 अप्रैल को स्वास्थ्य विभाग को शपथ पत्र दिया था। इसमें बताया था कि जब तक क्लीनिक का पुनः निबंधन और मानक के अनुरूप व्यवस्था नहीं हो जाता तब तक क्लीनिक का संचालन नहीं किया जाएगा। इसके बावजूद उक्त हॉस्पिटल का संचालन किया जा रहा था। इसके सूचना मिलते ही उक्त टीम दुबारा घटनास्थल पर गई और क्लीनिक को सील कर दिया।

चिकित्सा पदाधिकारी डॉक्टर रमेश प्रताप शाही ने बताया कि जल्द ही सभी निजी क्लीनिक और नर्सिंग होम की जांचकर आवश्यक कानूनी कारवाई की जाएगी। उक्त कारवाई के लिए परिहार के बीडीओ, सीओ और परिहार तथा बेला थानाध्यक्ष को 18 अक्टूबर को ही पत्र भेजा जा चुका है। डेट निर्धारित होते ही टीम बनाकर सभी को सील करने को कारवाई की जाएगी।

खबरें और भी हैं…



Source link