होमगार्ड पद पर 10 साल बाद होगी बहाली: लंबी अवधि ने युवाओं के हौसले को किया पस्त, 6 मिनट में 1600 मीटर की दौड़ बनी मुश्किल

0
7


बांकाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

बांका के RMK स्कूल मैदान में युवाओं की भारी भीड़ देखने को मिल रही है। यह भीड़ उन युवाओं की है जिन्होंने सरकारी नौकरी पाने के लिए 10 वर्ष पूर्व होम गार्ड की बहाली में अपना आवेदन दर्ज कराया था। 10 वर्ष की लंबी अवधि में हर दिन दिल मे एक आश लिए सरकार की तरफ टकटकी लगाए ये युवा चयन प्रक्रिया शुरू होने के इंतजार में थे। मगर प्रदेश की सरकार ने इनके सपनों को तार-तार करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। अंत में वर्ष 2021 में लगभग 10 साल बाद बांका में होम गार्ड बहाली की प्रक्रिया का ऐलान हुआ। इन 10 साल में जो युवा जोश से पूर्ण थे, उनके हौसले अब पस्त हो गए। लेकिन फिर भी इन युवाओं ने किसी तरह अपना मनोबल बढ़ाकर वापस से अग्निपरीक्षा देने के लिए बांका जिले के RMK स्कूल के मैदान में तैयारी करने के लिए निकल पड़े।

दरअसल, बांका में इस पद के लिए 282 अभ्यर्थियों का चयन करना था। इस पद पर कुल 10692 युवाओं ने आवेदन दिया था। जिसमें 10 साल की प्रतीक्षा करते-करते कई अभ्यर्थी रोजगार की तलाश में प्रदेश चले गए। जो बचे उन्हें अचानक से बहाली की सूचना मिली। वहीं, इतनी देरी से बहाली को लेकर अभ्यर्थी उदास दिखे। काफी युवक उम्र गुजर जाने के बाद शारीरिक दक्षता पास नहीं कर सके।

इस दौड़ में काफी ऐसे युवा भी थे जो पूर्व में फौज के लिए दौड़ लगा चुके थे। उनका चयन भी हुआ था मगर मेडिकल में छटा गए। वहीं, कुछ युवाओं ने प्रदेश सरकार से इस बहाली को रद्द करने की मांग भी की है। उनका कहना है कि एक तो 10 साल का लंबा अंतराल, ऊपर से दौड़ में निर्धारित किया हुआ समय मात्र 6 मिनट। इस 6 मिनट में आपको 1600 मीटर की दौड़ करनी है जो इस उम्र में संभव नहीं हो पा रहा है।

इसके लिए अगर उन्हें 30 सेकंड और मिलते तो उनके दशकों पुराने सपनों को साकार करने से कोई रोक नहीं सकता था। मगर बेबस लाचार अपने घर वापस जाने पर मजबूर हैं। इस दौड़ में बांका जिले के शम्भूगंज प्रखंड तथा फुल्लीडुमर के अभ्यर्थी जुटे थे। जिसमें की शम्भूगंज के 1267 ओर फुल्लीडुमर के 809 अभ्यर्थी हिस्सा लेने आये थे।

वहीं दूसरी तरफ स्थानीय विद्यालय में हजारों की संख्या में स्थानीय लोग इन युवाओं के हौशले बढ़ाने में जुटे थे। कुल 25-25 के ग्रुप में अभ्यर्थी दौड़ लगा रहे हैं जो इस दौड़ में सफल हो रहे हैं वो हाई जंप, लांग जंप में अपना जोर आजमा रहे हैं। यह बहाली प्रक्रिया 22 दिसंबर तक चलनी है। जिसमें कुल 10692 युवाओं के भविष्य का फैसला होना। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि प्रदेश की सरकार की यह बहाली कहीं न कहीं बांका जिले के युवाओं के लिए मात्र एक मजाक बन कर रहा गया है।

खबरें और भी हैं…



Source link