13 साल की बच्ची से बेरहमी, गर्म चाकू से दागा: मौसेरे भाई-भाभी पढ़ाने के बहाने गांव से उदयपुर लाए, डंडों से पीट-पीटकर घर के काम करवाते

0
33


  • Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Udaipur
  • Mauseri Bhai’s Wife Fired With A Hot Knife, Brought It From The Village Saying To Teach And Got Beaten Up Due To A Slight Mistake, The Girl Was Rescued

उदयपुर18 मिनट पहलेलेखक:  सतीश शर्मा

घर पहुंचकर मासूम से बात करते प�

जयपुर के बाद उदयपुर में 13 वर्षीय मासूम बच्ची के साथ बेरहमी का मामला सामने आया है। घर का काम सही ढंग से नहीं करने पर बच्ची को गर्म चाकू दागा गया। उसके मुंह और हाथ -पैर को जला दिया गया। ये सिलसिला पिछले कई महीनों से चल रहा था। मासूम के साथ मानवता की हदें पार करने वाले आरोपी उसके मौसेरा भाई और भाभी हैं। भाई-भाभी मासूम को पढ़ाने-लिखाने और अपने साथ रखने को कहकर बिहार से उदयपुर से लाए थे।

अपने गांव और जिले को भी सही से नहीं बता सकने वाली मासूम भाभी के अत्याचारों को कई महीनों से झेल रही थी। भाभी न किसी से बात करने देती थी, न अपने परिजनों से फोन पर कुछ बात करने देती। सामने आया है कि बच्ची का मौसेरा भाई उदयपुर में मजदूरी करता है। उसके घर से जाने के बाद भाभी दिनभर मासूम से घर का काम करवाती। थोड़ी भी कमी रहने पर थप्पडों, और डंडो से उसकी पिटाई करती। यही नहीं कई बार उसने गर्म चाकू और चिमटे से हाथ-पैर और मुंह को भी दाग दिया। बच्ची से इस बारे में पूछने पर डर से सहम जाती है।

रेस्क्यू करने के लिए टीम उसके घर पहंची तो मासूम की भाभी हाथ जोड़कर माफी मांगने लगी।

बुधवार को इस बच्ची की सूचना पड़ोसियों से दैनिक भास्कर को मिली। भास्कर ने बाल कल्याण समिति से सम्पर्क करते हुए बच्ची का रेस्क्यू कराया। चाइल्ड लाइन और सवीना पुलिस की टीम बच्ची के पास रोशननगर में उसके घर पहुंची। बच्ची से बात कर उसे शेल्टर होम भेजा गया। बच्ची का रेस्क्यू के बाद मेडिकल भी करवाया गया।

बाल कल्याण समिति अध्यक्ष ध्रुव कुमार कविया ने बताया कि बच्ची दो साल से अपने मौसेरे भाई और भाभी के साथ सवीना स्थित मकान में रहती थी। काउंसलिंग में सामने आया है कि मामूली सी गलती होने पर मासूम के साथ उसकी भाभी बर्बरता करती। बच्ची के भाई को सब पता था, मगर लंबे समय से वो अनजान रहा। मासूम का मौसेरे भाई भी बिहार का रहने वाला है, उसने असम की एक युवती से विवाह किया था।

प्राथमिक तौर पर काउंसलिंग के बाद फिलहाल बाल कल्याण समिति ने बच्ची को चाइल्डलाइन को सुपुर्द किया है। काउंसलिंग में सामने आया है कि बच्ची अपने माता पिता के पास बिहार जाना चाहती है। वहीं, रहकर पढ़ना चाहती है। जल्द ही बाल कल्याण समिति की रिपोर्ट पर सवीना पुलिस मामला दर्ज करेगी। इस मामले की जांच करेगी।

बच्ची ने बताया कि उसके 6 भाई-बहन​ हैं। माता-पिता दोनों मजूदरी करते है। समिति को यह भी शक है कि कही बच्ची को खरीदकर तो नहीं लाया गया। फिलहाल यह बच्ची के मौसेरे भाई और भाभी से पूछताछ के बाद साफ हो पाएगा।

खबरें और भी हैं…



Source link