IND vs NZ: पहली गेंद से छक्का जड़ने का प्लान रहने वाला है ये सुपरस्टार, दूसरे दशकों में बॉलर्स का तोड़ेगा गुरू!

0
19
IND vs NZ: पहली गेंद से छक्का जड़ने का प्लान रहने वाला है ये सुपरस्टार, दूसरे दशकों में बॉलर्स का तोड़ेगा गुरू!


भारत बनाम न्यूजीलैंड दूसरा वनडे, मिचेल सेंटनर: भारतीय टीम न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज का दूसरा यूएई कल यानी 21 जनवरी को रायपुर में खेलेगी. इसके लिए दोनों ही टीम के साथी साथ काम कर रहे हैं। इस बीच सबसे पहले ऑस्ट्रेलिया में बैट से कमाल दिखाते हुए स्टार बने न्यूजीलैंड के मिशेल सैंटनर ने अपना प्लान बताया है। इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी बताया कि कैसे उनके ‘पाव-गेम’ में सुधार हुआ।

सैंटनर का यूंसुदा ‘पाव-गेम’

न्यूजीलैंड के 30 वर्षीय मिशेल सैंटनर ने भारत के खिलाफ सीरीज में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 8वें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए 45 गेंदों पर 57 रन बनाए थे। इस दौरान उन्होंने 7 चौके और एक छक्का जड़ा। सैंटनर को लगता है कि पिछले 12 महीनों में बल्लेबाजी के लिए ज्यादा मिलने से उनका ‘पाव गेम’ में सुधार हुआ है। उन्हें इसी वजह से उपयोगी पारियां खेलने में मदद मिली। सैंटनर ने बुधवार को अपना तीसरा ऑस्ट्रेलिया अर्धशतक जमाया और माइकल ब्रासवेल का अच्छा स्कोर बनाकर सातवें विकेट के लिए 162 रन जोड़े।

बॉल फर्स्ट से ही छक्के जड़ने का प्लान था

ये ब्रासवेल और सैंटनर का ही कमाल था कि न्यूजीलैंड की टीम हैदराबाद में 350 रनों के लक्ष्य के करीब पहुंच गई थी। सैंटनर की रणनीति पर 8वें नंबर पर बल्लेबाजी करना बिल्कुल आसान था कि वह पहली गेंद से जड़ पकड़ेंगे। न्यूज़ीलैंड के बाकी बल्लेबाजों की तरह उन्होंने शुक्रवार को स्पिनरों का जोरदार सामना किया और ज्यादातर बल्लेबाजों को पार्क के बाहर हिट करने की कोशिश की।

ऑलराउंडर की ज्यादा जिम्मेदारी

सैंटनर ने दूसरे ऑस्ट्रेलिया की पूर्व संध्या पर कहा, ‘एक ऑलराउंडर होने के संबंध में आपके दोनों डिपार्टमेंट (गेंदबाजी-बल्लेबाजी) में योगदान होता है। पिछले साल से ही मैं बल्लेबाजी करने के लिए काफी रणनीतिक मिल रहा हूं जिससे मुझे काफी मदद मिली है। कभी-कभी जब आप निचले क्रम पर बल्लेबाजी करने लगते हैं तो यह काफी आकलन हो जाता है। आपके पास तब बस 3-4 ओवरबैल होते हैं। सातवें और आठवें नंबर पर बल्लेबाजी करते हुए आप पहली ही गेंद से हिट करने वाले होते हैं।’

नेट्स में भी यही होती है कोशिश

उन्होंने आगे कहा, ‘आप भूमिका के लिए सीखते रहें और मैं नेट में यही करने की कोशिश करता हूं और छक्के जड़ने का प्रयास करता हूं। जब आपके पास बल्लेबाजी के लिए ज्यादा समय होता है तो आप अपनी पारी में ज्यादा समय दे सकते हैं।’ सैंटनर ने कहा, ”जब आप क्रीज पर आते हैं तो कभी-कभी आप गलती करते हैं तो बस 15 ओवर बचे होते हैं और कभी-कभी केवल दो ओवर ही रहते हैं लेकिन आप दोनों में ही बने रहना चाहिए।’ (इनपुट: पीटीआई)

लेखों की पहली पसंद Zeenews.com/hindi– अब किसी और की जरूरत नहीं है

.



Source link