PM ने CM को नहीं दिया जवाब: एक सप्ताह पहले नीतीश कुमार ने नरेंद्र मोदी से मिलने के मांगा था समय, अब तक नहीं आया जवाब, जातीय जनगणना पर राजनीति तेज

0
20


  • Hindi News
  • Local
  • Bihar
  • Bihar News; A Week Ago, Nitish Kumar Had Asked For Time To Meet Narendra Modi, The Answer Has Not Come Yet

पटना10 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

CM अभी भी इंतजार कर रहे हैं कि PM का जबाब आए।

जातीय जनगणना पर बिहार की राजनीति उबाल मार रही है। बिहार के CM नीतीश कुमार ने बार-बार इस जातीय जनगणना के मसले को उठा कर इसे मुद्दे को ठंडा होने नही देना चाहते है। 2 अगस्त को CM नीतीश कुमार ने PM नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी थी, जिसमें जातीय जनगणना को लेकर सर्वदलीय प्रतिनिधिमंडल को मिलने का समय मांगा। 8 दिन हो गए, लेकिन PM नरेंद्र मोदी के के तरफ से ‘हां’ या ‘ना’ का जवाब नहीं आया।

CM अभी भी इंतजार कर रहे हैं कि PM का जबाब आए। जबकि बिहार से लेकर केंद्र तक में BJP और JDU की संयुक्त सरकार है। वहीं, पांच दिन पहले JDU के सभी सांसद JDU के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह के नेतृत्व में PM से मिलने का समय मांगा था, तो PMO से गृह मंत्री अमित शाह से मिलने को कहा गया। सभी JDU सांसदों ने जातीय जनगणना कराने को लेकर अपनी बात गृह मंत्री के सामने रख दी। लेकिन JDU को इससे संतुष्टि नहीं मिली है।

CM नीतीश कुमार जातीय जनगणना को लेकर इतने गंभीर है कि वो बार-बार केंद्र से इस जनगणना को कराने की अपील कर रहे है। CM नीतीश कुमार ने जनता दरबार में कहा कि उन्होने PM को चिट्ठी लिखी है लेकिन अबतक कोई जबाब नहीं है। लेकिन, इस मसले को गम्भीरता से लेना होगा। पिछला जातीय जनगणना 1931 में हुआ था। उसके बाद कभी जातीय जनगणना हुआ ही नहीं है, जबकि अभी के दौर में ये कराना बेहद जरूरी है। इस जातीय जनगणना को कराने से कई फायदे हैं। इससे ये पता चल जाएगा कि कौन सी जाति की क्या स्थिति है। उसके विकास के लिए काम किया जा सकता है। अभी भी समाज में कई ऐसे तपके है जो विकास से दूर है ये जातीय जनगणना में पता चल जाएगा।

नीतीश कुमार ने कहा कि जातीय जनगणना कराना केंद्र सरकार का ही काम है। कुछ राज्यों ने अलग से कराया था, जिसमें कर्नाटक में जातीय जनगणना हुआ था। यदि, बिहार में होगा तो वो गणना होगा। ये आपस में बैठकर चर्चा किया जाएगा करना है कि नहीं। अभी तो फिलहाल ये उम्मीद जताई जा रही कि केंद्र सरकार इसे कराए। CM ने कहा कि ये राजनीतिक मुद्दा नहीं है, ये समाजिक मुद्दा है। इसमें कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए। समाज के हित में ये जरुरी है कि जातीय जनगणना हो। हमलोग लगातार इस मुद्दे को उठा रहे हैं।

खबरें और भी हैं…



Source link